सनसनीखेजः अब आरबीआई के नाम पर ऑनलाइन घोटाले का पर्दाफाश

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर और भारतीय रिजर्व बैंक के लेटरहेड द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है। उसमें कहा गया है कि रिजर्व बैंक का गणेश भुमजी के साथ करार हुआ है।

हाल ही में ‘डी मार्ट’ नामक सुपरमार्केट के नाम पर एक ऑनलाइन घोटाला सामने आया है। इसके बावजूद इस तरह के घोटाले कम होते नहीं दिख रहे हैं। अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नाम पर एक नए घोटाले का पर्दाफश हुआ है।पीआईबी के फैक्ट चेक में यह खुलासा हुआ है। इसके बाद नागरिकों से सतर्क रहने का आग्रह किया गया है।

कैसे किया जा रहा है घोटाला?
वर्तमान में, भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर और भारतीय रिजर्व बैंक के लेटरहेड द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है। उसमें कहा गया है कि रिजर्व बैंक का गणेश भुमजी के साथ करार हुआ है। पत्र के अनुसार ग्राहक ने 12,500 रुपये ऑनलाइन जमा करें और बैंक प्रबंधन अगले 30 मिनट में आपके खाते में 4 करोड़ 62 लाख रुपये जमा कर देगा।

पीआईबी ने यह कहा_
पीआईबी के फैक्ट चेक में यह घोटाला साबित हुआ। इस प्रकार रिजर्व बैंक की कोई योजना नहीं है। इस पत्र को फर्जी बताते हुए आरबीआई द्वारा लोगों से अपील की गई है कि वे इस तरह की योजना के झांसे में न आएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here