कोरोना वैक्सीन को लेकर क्यों है हिचक?

इसी महीने कराए गए सर्वे में ज्यादातर लोगों ने वैक्सीन को लेकर हिचक दिखाई। सर्वे के मुताबिक जहां 69 प्रतिशत भारतीयों में वैक्सीन लगवाने को लेकर हिचक है, वहीं 26 प्रतिशत भारतीय अभिभावकों का कहना है कि वे अप्रैल 2021 में स्कूल खुलने से पहले अपने बच्चों को वैक्सीन लगवाना चाहेंगे।

दुनिया के तमाम देशों में कोरोना संक्रमण पर कंट्रोल के लिए टीकाकरण की तैयारी युद्ध स्तर पर चल रही है। कई देशों में टीकाकरण अभियान शुरू भी हो चुका है। भारत में दो वैक्सीनों की सीमित आपात इस्तेमाल की इजाजL मिल चुकी है। इसके साथ ही वैक्सीनेशन का पहला चरण इसी महीने शुरु होनेवाला है। लेकिन इस बीच एक सर्वे में हैरतअंगेज खुलासा हुआ है। सर्वे के मुताबिक 69 प्रतिशत भारतीय कोरोना वैक्सीन को लेकर असमंजस में हैं।

सर्वे में हुआ खुलासा
लोकल सर्कल्स की ओर से कराए गए सर्वे में यह खुालासा हुआ है। इसी महीने कराए गए सर्वे में ज्यादातर लोगों ने वैक्सीन को लेकर हिचक दिखाई। सर्वे के मुताबिक जहां 69 प्रतिशत भारतीयों में वैक्सीन लगवाने को लेकर हिचक है, वहीं 26 प्रतिशत भारतीय अभिभावकों का कहना है कि वे अप्रैल 2021 में स्कूल खुलने से पहले अपने बच्चों को वैक्सीन लगवाना चाहेंगे।

ये भी पढ़ेंः कनाडाई, नियमों को तोड़ किसानों से मिलने पहुंचा…

हेल्थकेयर वर्कर्स में भी हिचक
दिसंबर मे भी लोकल सर्कल्स ने सर्वे कराया था, जिसमें 69 फीसदी लोगों ने कोरोना वैक्सीन को लेकर हिचक दिखाई थी। हालांकि जनवरी में भारत में कोरोना वैक्सीन को इमरजेसी में इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है लेकिन लोगों में हिचक बरकार है। पिछले महीने करवाए गए सर्वे में 55 फीसदी हेल्थकेयर वर्कर्स में भी वैक्सीन को लेकर हिचक बरकार थी।

हिचक के कारण

  • वैक्सीन को मंजूरी देने मे पारदर्शिता की कमी
  • वैक्सीन लगवाने के बाद उसके दुष्परिणाम की आ रही खबरें
  • जानकारी का अभाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here