Covid-19: परदेसियों से हाथ मिलाना पड़ सकता है भारी

24 दिसंबर से अब तक 498 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के यात्रियों की कोरोना जांच की गई। इस दौरान 1,780 लोगों के सैंपल लिए गए।

कोरोना के नए वेरिएंट बीएफ.7 ने एक बार फिर दुनिया को डरा दिया है। चीन से लेकर दुनिया के कई देशों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। विश्व के कई देशों में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत सरकार भी सतर्क हो गई है। विदेश से आने वाले यात्रियों की एयरपोर्ट पर ही रैपिड टेस्टिंग शुरू कर दी गई है। अब तक 39 यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके बाद यह कहना गलत नहीं होगा कि अब परदेसियों से हाथ मिलाना भारी पड़ सकता है।

कोरोना तेजी से पसार रहा पैर
चीन में कोरोना जहां हाहाकार मचा रहा है, वहीं दूसरी ओर अमेरिका, फ्रांस समेत कई देशों में कोरोना तेजी से अपने पैर पसार रहा है। कोरोना के एक बार फिर बढ़ने से सभी देश चिंतित हैं। इसको लेकर भारत भी अलर्ट हो गया है। कोरोना का नया वेरिएंट भारत में न फैले इसको लेकर केंद्र सरकार हर जरूरी कदम उठा रही है। एयरपोर्ट पर भी रैपिड टेस्टिंग शुरू की गई है, ताकि विदेश से आ रहा यात्री कोरोना संक्रमित है या नहीं इसका पता लगाया जा सके।

ये भी पढ़ें- कोहरे ने लगाया ट्रेनों की रफ्तार पर ब्रेक, ‘इतनी’ टेनें रद्द

अब तक 1,780 लोगों का लिया गया सैंपल
एक रिपोर्ट के मुताबिक, 24 दिसंबर से अब तक 498 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के यात्रियों की कोरोना जांच की गई। इस दौरान 1,780 लोगों के सैंपल लिए गए, जिसमें 39 यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इन सभी सैंपल्स को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेज दिया गया है। बता दें कि 27 दिसंबर को कर्नाटक के बेंगलुरु में केंपेगौड़ा एयरपोर्ट पर चार विदेशी यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए थे। जिसके बाद चात्रियों को क्वारंटाइन कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here