इतिहास के पन्नों में 22 जूनः नेताजी कांग्रेस से अलग, किया फॉरवर्ड ब्लाक का गठन

भारत रत्न और आजादी की लड़ाई में प्राण फूंकने वाले सर्वकालिक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस कांग्रेस से अलग होकर ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया था।

देश-दुनिया के इतिहास में 22 जून की तारीख कई अहम घटनाओं के लिए स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज है। इसी तारीख को 1939 में भारतीय स्वाधीनता संग्राम सेनानी, भारत रत्न और आजादी की लड़ाई में प्राण फूंकने वाले सर्वकालिक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस कांग्रेस से अलग होकर ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया था। नेताजी का जन्म पिता जानकी नाथ बोस और माता प्रभा देवी के घर 23 जनवरी, 1897 को ओडिशा के कटक में हुआ था। वे अपने आठ भाइयों और छह बहनों में नौवीं संतान थे। वह स्वामी विवेकानंद से प्रभावित थे।

पिता अपने बेटे को सिविल सेवा के पदाधिकारी के रूप में देखना चाहते थे। पिता का सपना पूरा करने के लिए सुभाष ने सिविल सेवा की परीक्षा दी ही नहीं अपितु उस परीक्षा में चौथा पायदान भी हासिल किया। लेकिन उस समय सुभाष के मन में कुछ और ही चल रहा था। 1921 में देश में बढ़ती राजनीतिक गतिविधियों के समाचार पाकर एवं ब्रिटिश हुकूमत के अधीन अंग्रेजों की हां-हूजूरी न करने की बजाय उन्होंने महर्षि अरविन्द घोष की भांति विदेशों की सिविल सेवा की नौकरी को ठोकर मारकर मां भारती की सेवा करने की ठानी और भारत लौट आए थे।

ये भी पढ़ें – संकट में शिवसेना, एकनाथ शिंदे 11 पार्टी विधायकों के साथ नॉट रिचेबल! क्या भाजपा में होंगे शामिल?

महात्मा गांधी और नेताजी की विचारधारा भिन्न-भिन्न
स्वदेश लौटने पर नेताजी अपने राजनीतिक गुरु देशबंधु चितरंजन दास से न मिलकर गुरु रवीन्द्रनाथ टैगोर के कहने पर महात्मा गांधी से मिले। अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी सुभाष के हिंसावादी व उग्र विचारधारा से असहमत थे। बेशक महात्मा गांधी और नेताजी की विचारधारा भिन्न-भिन्न थी, पर दोनों का मकसद एक ही था ‘भारत की आजादी’। सच्चाई है कि महात्मा गांधी को सबसे पहले नेताजी ने ‘राष्ट्रपिता’ संबोधित किया था। 1938 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद नेताजी ने राष्ट्रीय योजना आयोग का गठन किया। कहा जाता है कि यह आयोग गांधीवादी आर्थिक विचारों के प्रतिकूल था।

रंगून के जुबली हॉल में अपने ऐतिहासिक भाषण में नेताजी ने ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा’ और ‘दिल्ली चलो’ का नारा दिया। सक्रिय राजनीति में आने व आजाद हिन्द फौज की स्थापना से पहले बोस ने सन 1933 से 1936 तक यूरोप महाद्वीप का दौरा भी किया । बोस ने कूटनीतिक व सैन्य सहयोग की अपेक्षा खातिर हिटलर से मित्रवत नाता भी कायम किया। साथ ही 1937 में ऑस्ट्रियन युवती एमिली से शादी भी की और दोनों की अनीता नाम की एक बेटी भी हुई। अधिकांश लोग ये मानते हैं कि दूसरे विश्व युद्ध में जापान के आत्मसमर्पण के कुछ दिन बाद दक्षिण-पूर्वी एशिया से भागते हुए एक हवाई दुर्घटना में 18 अगस्त,1945 को नेताजी की मृत्यु हो गई। एक मान्यता यह भी है कि बोस की मौत 1945 में नहीं हुई, वह उसके बाद रूस में नजरबंद थे। उनके गुमशुदा होने और दुर्घटना में मारे जाने के बारे में कई विवाद छिड़े, लेकिन सच कभी सामने नहीं आया। हालांकि एक साक्षात्कार में नेताजी की बेटी अनीता बोस ने कहा था कि उन्हें इस बात पर पूरा यकीन है कि उनके पिता की मौत दुर्भाग्यपूर्ण विमान हादसे में हो गई।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र
1555: मुगल सम्राट हुमायूं ने अपने पुत्र अकबर को अपना वारिस घोषित किया।
1593ः सिसाक की लड़ाई में ईसाइयों की सामूहिक सेना ने उस्मानी तुर्कों (ऑटोमन) को हराया।
1844ः येल विश्वविद्यालय में डेल्टा कप्पा एप्सिलन सोसायटी की स्थापना।
1870ः अमेरिकी कांग्रेस ने संयुक्त राज्य अमेरिकी न्याय विभाग की स्थापना की।
1897: चापेकर भाइयों, दामोदर और बालकृष्ण ने पुणे में ब्रिटिश अधिकारी को गोली मारी।
1906: स्वीडन ने राष्ट्रीय ध्वज अपनाया।
1911: किंग जॉर्ज पंचम इंग्लैंड के राजा बने।
1939: नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने ‘फॉरवर्ड ब्लॉक’ की स्थापना की।
1941: द्वितीय विश्वयुद्ध में जर्मनी ने सोवियत रूस पर आक्रमण किया।
1941ः लिथुआनिया में जनविद्रोह।
1944: अमेरिका ने सेवानिवृत्त सैनिकों की मदद के लिए कानून बनाया।
1946ः इंग्लैंड और भारत के बीच लंदन के लॉड्र्स क्रिकेट मैदान में पहला क्रिकेट टेस्ट मैच।
1948ः ब्रिटिश सम्राट ने इम्प्रेरर ऑफ इंडिया शीर्षक को त्यागा।
1981: अमेरिकी संगीतज्ञ जॉन लेनन के हत्यारे ने गुनाह कुबूल किया।
1984ः लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट से वर्जिन अटलांटिक एयरवेज ने पहली उड़ान भरी।
1986: अर्जेंटीना के फुटबाल खिलाड़ी दिएगो माराडोना ने यादगार ‘हैंड ऑफ गॉड’ गोल किया। इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप क्वार्टरफाइनल मुकाबले में गेंद माराडोना के हाथ से लगकर गोल में चली गई, जबकि रेफरी ने समझा कि गेंद उनके सिर से लगी है। लिहाजा उसने गोल दे दिया। इस मैच में जीत दर्ज करके अर्जेंटीना अंतत: टूर्नामेंट जीतने में कामयाब रहा।
2002ः ईरान में भूकंप, 500 से अधिक लोगों की मौत।
2006ः अमेरिका ने मिसाइल रक्षा प्रणाली का सफल परीक्षण किया।
2007ः सुनीता विलियम्स टीम के साथ धरती पर लौटीं।
2009ः 21वीं सदी का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई दिया।
2015ः अफगानिस्तान की नेशनल असेंबली में आत्मघाती हमला।
2016ः इसरो ने अंतरिक्ष में रचा इतिहास। लॉन्च किए 20 उपग्रह।

जन्म
1900ः भारतीय स्वतंत्रता सेनानी गणेश घोष।
1922ः फिलिपिनी अभिनेत्री मोना लिसा।
1932ः भारतीय अभिनेता अमरीश पुरी।
1950ः भारतीय अभिनेता टॉम अल्टर।

निधन
1932ः भारत के प्रसिद्ध कवि जगन्नाथदास ‘रत्नाकर’।
1988ः बौद्ध भिक्षु, पालि भाषा के मूर्धन्य विद्वान भदन्त आनन्द कौसल्यायन।
1994ः भारतीय फिल्मकार, निर्माता-निर्देशक और अभिनेता एलवी प्रसाद।
2000ः प्रमुख हिन्दी कवि केदारनाथ अग्रवाल।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here