रूस के वृद्धाश्रम में भीषण आग, इतने बुजुर्गों की चली गई जान

रूस में बुजुर्गों की देखभाल के लिए बने केंद्रों के लिए पंजीकरण जरूरी है। इसके बावजूद बड़ी संख्या में पंजीकरण कराए बिना ऐसे केंद्र संचालित किये जा रहे हैं।

रूस के केमेरोवा शहर के एक वृद्धाश्रम में भीषण आग लग गयी। आग की चपेट में आकर 22 बुजुर्गों की जलकर मौत हो गयी। कई लोग जख्मी हो गए, जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रूस के केमेरोवा शहर में स्थित एक वृद्धाश्रम में बुजुर्गों को देखभाल के लिए रखा जाता था। केमेरोवा शहर अत्यधिक ठंडे इलाके में स्थित है। इसलिए यहां के घरों को गर्म रखने के लिए विभिन्न उपकरणों का प्रयोग किया जाता है। लकड़ी से बने दो मंजिला वृद्धाश्रम में 23 दिसंबर की रात घर गर्म करने के लिए हीटिंग स्टोव जलाते समय अचानक तेज आग लग गयी। इमारत की दूसरी मंजिल आग से पूरी तरह जलकर राख हो गयी। हादसे में 20 बुजुर्गों की मौके पर ही मौत हो गयी। कई बुजुर्गों को गंभीर अवस्था में अस्पताल पहुंचाया गया, जिनमें से दो की मौत हो चुकी है। इस तरह कुल 22 बुजुर्ग इस अग्निकांड में अपनी जान गंवा चुके हैं। अस्पताल में भर्ती अन्य लोग भी गंभीर अवस्था में हैं।

ये भी पढ़ें- दक्षिण अफ्रीका में फटा गैस टैंकर, मच गई भगदड़

अवैध तरीके से चल रहा था वृद्धाश्रम
इस संबंध में केमेरोवा के आपातकालीन सेवा विभाग द्वारा एक वीडियो जारी किया गया है। वीडियो में साफ दिख रहा है कि एक घर से तेज लपटें उठ रही हैं और पास ही आपातकालीन व सेवा वाहनों की कतार लगी हुई है। इस संबंध में जानकारी दी गयी कि भीषण आग की चपेट में आया वृद्धाश्रम प्रशासनिक व्यवस्था के अंतर्गत पंजीकृत नहीं कराया गया था। इस अवैध बुजुर्ग देखभाल केंद्र में अचानक लगी आग से 22 लोगों को जान गंवानी पड़ी। देर रात तक आग पर काबू पा लिया गया। बताया गया कि रूस में बुजुर्गों की देखभाल के लिए बने केंद्रों के लिए पंजीकरण जरूरी है। इसके बावजूद बड़ी संख्या में पंजीकरण कराए बिना ऐसे केंद्र संचालित किये जा रहे हैं। प्रशासनिक अमले द्वारा इन घरों का निरीक्षण नहीं किया जाता है, क्योंकि उन्हें आधिकारिक तौर पर निजी संपत्ति माना जाता है। इस घटनाक्रम को लापरवाही मानते हुए जांच शुरू कर दी गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here