राज्यपाल की राजनीति से संन्यास लेने की इच्छा पर मुख्यमंत्री शिंदे ने कही ये बात

महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के लिए कई नेता भगवान के सामने हाथ जोड़ कर बैठे हैं। वहीं कुछ नेताओं ने कैबिनेट विस्तार में देरी को लेकर सार्वजनिक रूप से नाराजगी भी जताई है।

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के साथ दिल्ली पहुंचे मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बताया कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सेवानिवृत्त होने कि इच्छा जाहीर की है। उनकी इस इच्छा पर प्रधानमंत्री फैसला करेंगे।

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने 24 जनवरी को केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह के साथ बैठक की। इस बैठक में राज्य के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई। इस बैठक के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि महाराष्ट्र में सहकारी क्षेत्र और चीनी उद्योग में सुधार किया जाना है। इसको लेकर अमित शाह से चर्चा हुई। सहकारिता क्षेत्र की बैठक होने पर राज्य में अन्य कांग्रेस, एनसीपी या किसी अन्य पार्टी के नेताओं को नुकसान पहुंचाना हमारा उद्देश्य नहीं है। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कैबिनेट विस्तार के जल्द होने के संकेत दिए हैं। शिंदे ने कहा कि सहकारिता क्षेत्र के लिए हम सबके साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

राज्यपाल पहले ही सेवानिवृत्त होने की जता चुके हैं इच्छा
उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने बताया कि राज्यपाल पहले ही सेवानिवृत्ति की बात कह चुके हैं। उन्होंने अपने स्वास्थ्य को लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। इस मामले में प्रधानमंत्री ही फैसला करेंगे। फडणवीस ने कहा कि ठाकरे सरकार के दौरान उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की कोशिश की जा रही थी। फडणवीस ने आरोप लगाया कि महाविकास अघाड़ी सरकार के समय उन्हे जेल में डालने के लिए सुपारी दी गई थी।

इन मुद्दों पर हुई चर्चा
सूत्रों के अनुसार महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के लिए कई नेता भगवान के सामने हाथ जोड़ कर बैठे हैं। वहीं कुछ नेताओं ने कैबिनेट विस्तार में देरी को लेकर सार्वजनिक रूप से नाराजगी भी जताई है। नतीजतन अमित शाह के साथ 24 जनवरी को हुई बैठक में राज्यपाल की सेवानिवृत्ति, सहकारिता नीति, कैबिनेट विस्तार और शिवसेना पार्टी चिन्ह को लेकर सुनवाई पर चर्चा हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here