यास का तांडवः जानिये, कहां, क्या है हाल और कैसी है निपटने की तैयारी!

यास चक्रवात ने अपना विकराल रुप दिखाना शुरू कर दिया है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल में इस कारण तूफानी हवाएं चल रही हैं और मूसलाधार बारिश हो रही है। इसके मद्देनजर लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है।

यास चक्रवात ने विकराल रुप धारण कर लिया है। इसकी ओडिशा में तट से टकराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस कारण कई क्षेत्रों में तूफानी हवाएं और भारी बारिश शुरू हो गई हैं। कई जगहों पर पेड़ों के उखड़ने की घटनाएं घटी हैं। यास के कारण पश्चिम बंगाल में तट से कई किलोमीटर दूर तक दूकानों और घरों में जल भराव से लोगों की परेशानी बढ़ गई है।

तूफान बालेश्वर और भद्रक जिले के बीच स्थित धामरा के निकट तट से टकराएगा। इस दौरान 155-165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवा चल सकती है।

ओडिशा में लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी
ओडिशा में लैंडफॉल की प्रक्रिया करीब नौ बजे शुरू हुई और यह कई घंटों तक जारी रहेगी। इस दौरान 120-140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तूफानी हवा चलने का अनुमान है। जबकि मयूरभंज जिले में इसकी रफ्तार 100-110 किमी प्रति घंटे के आसपाल रहने का अनुमान है। उसके बाद इसकी रफ्तार कम होनी शुरू हो जाएगी।

इन राज्यों में एलर्ट जारी
मौसम विभाग ने बंगाल और ओडिशा के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। उसने इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। दूसरी ओर चक्रवात से खतरे के मद्देनजर बंगाल और ओडिशा में 12 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। झारखंड, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में भी बचाव और राहत कार्य तेज कर दिए गए हैं।

ये भी पढ़ेंः पंजाब चुनाव 2022ः कांग्रेस के लिए ऐसे बज रही है खतरे की घंटी!

खास बातें

  • मौसम विभाग विज्ञान से प्राप्त जानकारी के अनुसार विकराल तूफान यास ओडिशा के बलासोर से लगभग 50 किमी दक्षिण-पूर्व में केंद्रित है।
  • ओडिशा के भद्रक जिले के धामरा में तूफानी हवाओं के साथ बारिश भी हो रही है। पारादीप में तूफानी हवाओं के कारण कई पेड़ उखड़ गए।
  • पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना में तेज हवाएं और बारिश हो रही है।वहीं पूर्वी मेदनापुर के दीघा में भी तूफानी हवा केसाथ समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं।

क्या है तैयारी?
राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने पहली बार रिकार्ड संख्या में कुल 113 टीमों को पांच राज्यों में तैनात किया है। इनमें 52 टीमें ओडिशा और 45 टीमें बंगाल मे तैनात की गई हैं। बाकी टीमें अन्य तूफान प्रभावित राज्यों में   मुस्तैद हैं।

इसके साथ ही 50 टीमों को इमरजेंसी के लिए तैयार रखा गया है। इसके साथ ही ताउते से सबक लेते हुए नौसेना के चार पोत भी राहत कार्य चलाने के लिए तैयार रखे गए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here