“1971 में हमने चटाई थी धूल, अब आतंकवाद…!” स्वर्णिम विजय पर्व पर पाकिस्तान को कड़ा संदेश

स्वर्णिम विजय पर्व के अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को कड़े संदेश दिए। इसके साथ ही उन्होंने हाल ही में हेलीकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले देश के प्रथम सीडीएस बिपन रावत की वीरता और त्याग को भी याद किया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने स्वर्णिम विजय पर्व के अवसर पर सीडीएस बिपिन रावत और हेलीकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले सेना के उच्चाधिकारियों को याद करते हुए उनकी वीरता और देशभक्ति की प्रशंसा की। इसके साथ ही उन्होंने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए आतंकवाद पर प्रहार किया।

रक्षा मंत्री ने कहा, “आज के दिन मैं भारतीय सेना के उन सभी सैनिकों के शौर्य, पराक्रम और बलिदान को नमन करता हूं, जिनके कारण 1971 के युद्ध में भारत ने जीत हासिल की। भारत उन वीरों के त्याग और बलिदान को कभी भूला नहीं सकता। देश हमेशा उनके प्रति कृतज्ञ रहेगा।”

पाकिस्तान को कड़ा संदेश
रक्षा मंत्री स्वर्णिम विजय पर्व के उद्घाटन समारोह में बोलते हुए कहा,” आतंकवाद को बढ़ावा देकर पाकिस्तान भारत में अशांति फैलाना चाहता है। नफरत का जहर फैलाकर देश को तोड़ना चाहता है। भारत की सेना ने 1971 में उसके इरादों को ध्वस्त कर दिया था और अब आतंकवाद को जड़ से खत्म करने की दिशा में कड़े कदम उठाए जा रहे हैं।”

छद्म युद्ध में भी देंगे मात
रक्षा मंत्री सिंह ने कहा, “हम आमने-सामने के युद्ध में पाकिस्तान को कई बार सबक सिखा चुके हैं और छद्म युद्ध में भी जीत हमारी होगी। पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद को हम जड़ से खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

और बदल गया एशिया का इतिहास
रक्षा मंत्री ने कहा, “आज हम सभी इंडिया गेट पर 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध के स्वर्णिम विजय पर्व के अवसर पर इकट्ठे हुए हैं। यह पर्व भारतीय सेनाओं की उस शानदार जीत की याद में मनाया जा जाता है, जिसने एशिया के इतिहास और भूगोल को बदल दिया था।”

इसलिए सादगी से मनाने का लिया निर्णय
सिंह ने कहा, “यह पर्व बड़े पैमाने पर मनाने का निर्णय लिया गया था, लेकिन देश के प्रथम सीडीएस जनरल बिपिन रावत के निधन के बाद इसे सादगी से मनाने का निर्णय लिया गया। आज इस अवसर पर मैं उन्हें भी याद करते हुए अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

1971 के वीरों को किया नमन
इसके साथ ही रक्षा मंत्री ने भारतीय सेना के उन सभी सैनिकों के शौर्य, पराक्रम और बलिदान को याद किया, जिनकी वजह से भारत ने 1971 में पाकिस्तान पर जीत हासिल की थी और बांग्लादेश स्वतंत्र देश के रुप में स्थापित हुआ था।

बांग्लादेश पूरी दुनिया के लिए प्रेरणा
रक्षामंत्री ने कहा, “भारत ने बांग्लादेश में लोकतंत्र की स्थापना में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया और आज हम इस बात से अत्यंत प्रसन्न हैं कि पिछले 50 साल में बांग्लादेश ने विकास की राह पर पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह पूरी दुनिया के लिए प्रेरणा का विषय है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here