कश्मीर में अंत्येष्टि की ओर आतंकवाद!

लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने कहा कि पूरी कश्मीर घाटी में वर्तमान में  217 आतंकवादियों के मौजूद होने की सूचना पुलिस और सेना के पास है। यह आंकड़ा पिछले एक दशक में सबसे कम है।

सुरक्षाबलों की मुस्तैदी और आतंकवादियों के खिलाफ उठाए गए कड़े कदम की वजह से जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमलों के साथ ही घुसपैठ में भी भारी कमी आई है। भारतीय सेना लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने इस विषय में जानकारी साझा की है। उन्होंने बताया कि 2020 में आतंकवाद से संबंधित हर तरह के मामलों में भारी कमी आई है। कश्मीर घाटी में वर्तमान में मात्र 217 आतंकवादियों के मौजूद होने की सूचना पुलिस और सेना के पास है। यह आंकड़ा पिछले एक दशक में सबसे कम है।

नये आतंकवादियों की भर्ती अब आसान नहीं
लेफ्टिनेंट जनरल द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक कश्मीर घाटी में 29 सालों में करीब 46,000 लोगों की जान गई है। इनमें 24,000 आतंवादी शामिल हैं। 2018 की तुलना में 2020 में आतंकवादियों की भर्ती पर काफी हद तक कंट्रोल किया गया है।

सोशल मीडिया का आतंकी इस्तेमाल
लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने कहा कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी सुरक्षाबलों और नागरिकों को निशाना बनाते हैं। जब सुरक्षाबल उनके खिलाफ कार्रवाई करते हैं तो वे अफवाहें फैलाकर सेना की इमेज खराब करने की कोशिश करते हैं। इसके लिए वे सोशल मीडिया की भी सहायता लेते हैं। साथ ही वे सोशल मीडिया की मदद से आतंकवादियों की भी भर्ती करते हैं।

        ये भी पढ़ेंः कृषि कानूनों पर ‘शाह’ ने क्या कहा?… जानें

ये है बड़ी चुनौती
लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने बताया कि पाकिस्तान से ड्रोन और सुरंग के जरिए आतंकवादी गतिविधियों के लिए हथियार और ड्रग्स भेजे जाते हैं। यह एक बड़ी चुनौती है। इससे निपटने के लिए भारतीय सेना आधुनिक तकनीकी का उपयोग कर रही है। उन्होंने बताया कि हर 20-25 तलाशी अभियान में से एक में आतंकवादियों से मुठभेड़ होती है। सुरक्षाबलों का प्रयास होता है कि इसमें नागरिकों को जान- माल का नुकसान न हो।

अनुच्छेद 370 हटाना साबित हुआ गेम चेंजर
बता दें कि भारत के अभिन्न अंग और केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में तेजी से जनजवीन सामान्य हो रहा है। लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने यह दावा करते हुए कहा कि इस केंद्र शासित प्रदेश में हालात में तेजी से सकारात्मक बदलाव आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाया जाना यहां की स्थिति में सुधार के लिए गेम चेंजर साबित हुआ है। अब सेना और सरकार पर लोगों का भरोसा बढ़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here