श्रीलंकाः कंटेनर शिप में भीषण आग, बुझाने के लिए इंडियन कोस्ट गार्ड के जहाज रवाना

श्रीलंका में कोलंबो के पास बंदरगाह में 20 मई को एसिड और ईंधन से भरे एक कंटेनर शिप में आग लग गई थी। तब से अग्नितांडव जारी है। जिस जहाज पर आग लगी है, उसका नाम एमवी एक्स-प्रे पर्ल है।

श्रीलंका के कोलंबो तट के पास कंटेनरशिप में लगी भीषण आग को बुझाने में मदद करने के लिए इंडियन कोस्ट गार्ड के दो जहाज रवाना हो गए हैं। 20 मई को एसिड और ईंधन से भरे इस कंटेनर शिप में आग लग गई थी। तब से यह अग्नितांडव जारी है। जिस जहाज पर आग लगी है, उसका नाम एमवी एक्स-प्रे पर्ल है।

छह दिन पहले इस कंटेनर शिप में आग लग गई थी। यह जहाज कोलंबों के उत्तर पश्चिम में 9.5 समुद्री मील यानी 18 किमी की दूरी पर लंगर डाले हुए था। यह बंदरगाह में प्रवेश करने की प्रतीक्षा कर रहा था। जहाज पर 5 भारतीय समेत चालक दल के 25 कर्मचारी थे। अच्छी बात यह है कि इन सबको जहाज से सुरक्षित निकाल लिया गया है।

सहायता मांगने पर भेजे गए जहाज
छह दिन से लगी इस आग पर नियंत्रण में मदद करने के लिए भारतीय तटरक्षक बल के दो जहाज वैभव और वज्र को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया है। तटरक्षक बल के दोनों जहाज बाहरी फोम और प्रदूषण प्रतिक्रिया क्षमताओं से लैस अपतटीय गश्ती जहाज हैं। रक्षा मंत्रालय के अनुसार इन जहाजों को श्रीलंका के अधिकारियों द्वारा सहायता मांगने के बाद भेजा गया है।

ये भी पढ़ेंः परेशानी के बावजूद भारत ने निभाई मित्रता! कोरोना से तबाह नेपाल की ऐसे की मदद

भारतीय रक्षा मंत्रालय ने दी जानकारी
भारतीय रक्षा मंत्रालय के अनुसार एमवी-प्रेस पर्ल 1486 कंटेनर लेकर हाजिरा से कोलंबो आ रहा था। इसमें 25 टन ज्वलनशील नाइट्रिक एसिड लदा हुआ था। इसके साथ ही जहाज में 325 मीट्रिक टन ईंधन भी भरा हुआ है।

खास बातें

  • तत्काल सहायता के लिए कोच्चि, चेन्नई और तूतीकोरिन में भारतीय तटरक्षक बल के जहाज तैयार
  • हवाई निगरानी के लिए चेन्नई और कोच्चि स्थित कोस्ट गार्ड के एयरक्राफ्ट को तूतीकोरिन बुलाया गया
  • ऑपरेशन के लिए श्रीलंका के अधिकारियों के साथ लगातार संपर्क में भारतीय रक्षा मंत्रालय
  • श्रीलंका में रह रहे भारतीयों को कोलंबो और नीगोंबो के पास समुद्र के पास न जाने की सलाह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here