तीन और राफेल फ्रांस से रवाना! आसमान में और बढ़ेगी भारत की ताकत

तीन राफेल की एक और खेप 5 मई को फ्रांस से भारत के लिए रवाना हो गई है। इस बारे मेंं फ्रांस के भारतीय राजदूत ने जानकारी दी है।

तीन राफेल की एक और खेप 5 मई को फ्रांस से भारत के लिए रवाना हो गई है। इस बारे मेंं फ्रांस के भारतीय राजदूत ने जानकारी दी है। उन्होंने यह जानकारी देने के साथ ही पायलटों की सुगम उड़ान और सुरक्षित लैंडिंग की कामना की है।

मिली जानकारी के अनुसार तीन राफेल की यह खेप 6 मई को भारत में पहुंच जाएगी। बता दें कि अप्रैल में भी फ्रांस से तीन राफेल की एक खेप भारत पहुंच चुकी है। बताया जा रहा है कि इस साल के अंत तक सभी 36 राफेल भारत को मिल जाएंगे। 60 हजार करोड़ के इस भारत और फ्रांस सरकार के बीच हुए सौदे में कुल 36 राफेल भारत को मिलने हैं।

ये तीनों लड़ाकू विमान फ्रांस से भारत की लगभग 7 हजार किमी की दूरी बिना रुके तय कर भारत पहुंचेंगे। यूएई के आसामन में तीनों विमानों में एयर टू एयर रिफ्यूलिंग की जाएगी, यानी उड़ान के दौरान आसमान में ही ईंधन भरा जाएगा।

चीन-पाकिस्तान बेचैन
चीन और पाकिस्तान के साथ तनावपूर्ण संबंध के बीच भारत अपनी सेना को ज्यादा से ज्यादा आधुनिक बनाने और मजबूती प्रदान करने में जुटा है। इसी क्रम में तीन राफेल की नई खेप  भारत पहुंचने वाली है।। इसके साथ ही 6 और राफेल लड़ाकू विमान अप्रैल के मध्य तक भारत पहुंच जाएंगे। फिलहाल उत्तर बंगाल में हाशिमारा फॉरवर्ड बेस ने पांच लड़ाकू विमानों के साथ अपना ऑपरेशन शुरू कर दिया हैष

59 हजार करोड़ का करार
बता दें कि फ्रांस को कुल 36 राफेल 2021 के अंत तक भारत को सौंपने हैं। भारत और फ्रांस की सरकार के बीच यह कुल 60 हजार करोड़ रुपए का करार हुआ है।

ये भी पढ़ेंः सेना में अब महिलाओं की भी कदम ताल!

 गोल्डेन एरो स्क्वाड्रन में 11 विमान शामिल
आईएएफ के अंबाला स्थित गोल्डेन एरो स्क्वाड्रन ने जुलाई 2020 और जनवरी 2021 के बीच 11 राफेल जेट्स को पहले ही वायुसेना में शामिल कर लिया है। इन लड़ाकू विमानों को लद्दाख थिएटर से संचालित किया जा रहा है। इन्हें मई 2020 से ही चीन के साथ सीमा गतिरोध के कारण अलर्ट पर रखा गया है।

ये भी पढ़ेंः शौर्य का कहर बरपायेगा, जीत का जयघोष सुनाएगा! वायु सेना में राफेल शामिल

बता दें  कि दसॉल्ट एविएशन ने फ्रांस में ट्रेनिंग के लिए कुछ और राफेल विमानों को पहले ही आईएएफ सौंप दिया है। उन पर भारतीय पायलॉट को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

खास बातें

  • राफेल विमानों की पहली खेंप वर्ष 2020 में 29 जुलााई को भारत आई थी।
  • 60 हजार करोड़ का यह करार भारत ने फ्रांस के साथ किया है। इस करार के तहत फ्रांस भारत को कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान देगा।
  • 2015 में इस करार पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • तीन विमानों की दूसरी खेप तीन नवंबर को आई थी।
  • तीसरी खेप 27 जनवरी को भारत पहुंची थी।
  • चौथी खेप मार्च 31 मार्च को भारत पहुंची है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here