देश के मिशन ऑक्सीजन में नौसेना का समुद्र सेतु! यहां से लाई जा रही है प्राण वायु

कोविड 19 संक्रमण से मुक्ति के लिए तीनों सेना भी शामिल हो गई हैं। विदेशों से आनेवाले संसाधनों की आपूर्ति के लिए वायु सेना और नौसेना लगी हुई है जबकि थल सेना देश भर में कोविड सेंटर का संचालन कर रही है।

कोविड-19 के खिलाफ देश की लड़ाई में नौसेना ऑपरेशन समुद्र सेतु-2 चला रही है। इसमें सात नौसेना जहाजों को लगाया गया है। जिन्हें विभिन्न देशों से लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन-फिल्ड क्रायोजेनिक कंटेनर्स और संबंधित मेडिकल इक्विपमेंट को लाने के लिए तैनात किया गया है।

नौसेना के समुद्री बेड़े में आईएनएस कोलकाता, कोच्चि, तलवार, टाबर, त्रिकंड, जलश्व तथा ऐरावत को लगाया गया है। इसमें से आईएनएस कोलकाता तथा आईएनएस तलवार, फारस की खाड़ी में मिशन के लिए तैनात थे, इन जहाजों को पहली खेप के लिए तत्काल डायवर्ट किया गया और ये जहाज 30 अप्रैल, 2021 को बहरीन के मनामा बंदरगाह में प्रवेश किया है।

ये भी पढ़ें – गुजरात के कोविड सेंटर में अग्नितांडवः 16 लोगों की मौत, कई घायल

  • इसमें 40 एमटी लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के साथ आईएनएस तलवार चल चुका है।
  • आईएनएस कोलकाता मेडिकल आपूर्तियां लाने के लिए कतर के दोहा की ओर बढ़ रहा है और इसके बाद वह जहाज पर लिक्विड ऑक्सीजन टैंक चढ़ाने के लिए कुवैत जाएगा
  • पूर्वी समुद्र तट पर, आईएनएस ऐरावत को भी इस दायित्व के लिए डायवर्ट किया गया
  • आईएनएस जलश्व, भी इस कार्य में सहायता के लिए रवाना किया गया
  • आईएनएस ऐरावत लिक्विड ऑक्सीजन टैंक चढ़ाने के लिए सिंगापुर जाएगा
  • आईएनएस कोच्चि, टाबर, त्रिकंड को भी राष्ट्रीय प्रयासों में शामिल करने के लिए मोड़ दिया गया
  • दक्षिणी नौसेना कमान से लैंडिंग शिप टैंक आईएनएस शार्दुल को 48 घंटों के भीतर अभियान में शामिल करने के लिए तैयार किया जा रहा

सेना के अनुसार आवश्यकता पड़ने पर कोविड-19 के खिलाफ देश की लड़ाई में सहायता करने के लिए और अधिक जहाजों की तैनाती करने की भी भारतीय नौसेना के पास क्षमता है। उल्लेखनीय है कि ऑपरेशन समुद्र सेतु पिछले वर्ष नौसेना द्वारा आरंभ की गई थी और कोविड-19 के प्रकोप के बीच पड़ोसी देशों में फंसे लगभग 4,000 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक भारत वापस लाया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here