वो चीनी सैनिक गुप्तचर तो नहीं?

पैंगोंग त्सो झील के क्षेत्र में भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने की स्थिति में हैं। यहां पर चीन की घुसपैठ को रोकने के लिए भारतीय सेना के जवान तैनात हैं।

भारतीय सेना ने चीन के सैनिक को पकड़ा है। ये सैनिक भारत और चीन सीमा की वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार करके भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर रहा था। इस सैनिक को पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग त्सो झील के इलाके में पकड़ा गया है। ये अब जांच का विषय है कि कहीं वो सैनिक गुप्तचर नहीं था।

भारतीय सेना के अनुसार, पिपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक ने सीमा पार किया था जिसे तुरंत वहां पर तैनात भारतीय सेना ने हिरासत में ले लिया। पीएलए सैनिक के साथ अब सैन्य प्रक्रियाओं और परिस्थितियों के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़े – अब किसानों के विरोध में उठी ये मांग!

मई 2019 के बाद से ही भारत-चीन सीमा के दोनों ओर दोनों देशों की सेनाएं तैनात हैं। ये चीनी सेनाओं द्वारा भारतीय क्षेत्र की ओर बढ़ने की प्रक्रिया के बाद भारत ने ये कदम उठाए थे। अक्टूबर 2019 में भी ऐसी ही एक घटना हुई थी। जब पीएलए के सैनिक कॉर्पोरल वांग या लॉंग को दामचोक क्षेत्र में पकड़ा गया था। उसे बाद में पिपल्स लिबरेशन आर्मी के सुपुर्द कर दिया गया था।

ये भी पढ़ें – भंडारा अस्पताल की कहानी मां की जुबानी

सू्त्रों के अनुसार भारतीय सेना के लगभग पचास हजार जवान टैंकों के साथ पूर्वी लद्दाख में तैनात हैं। ये सैनिक चीन द्वारा इस क्षेत्र में सैन्य बल बढ़ाए जाने के बाद तैनात किये गए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here