8 नवंबर का इतिहासः ‘सैल्यूट, फादर ऑफ द इंडियन एयर फोर्स सुब्रतो मुखर्जी!’

देश-दुनिया के इतिहास में 08 नवंबर की तारीख तमाम वजह से खास है। इस तारीख का आजाद भारत के पहले वायुसेना प्रमुख सुब्रतो मुखर्जी से रिश्ता है। उन्हें इस तारीख को देश पुण्य तिथि पर नमन करता है । वो 08 नवंबर, 1960 को वह टोक्यो पहुंचे थे। वहां रेस्तरां में खाना खाते समय उनका निधन हो गया। उनकी पार्थिव देह को दिल्ली वापस लाया गया और पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गाय। तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू समेत प्रमुख भारतीयों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया था।

एयर मार्शल सुब्रतो मुखर्जी पहले रॉयल एयर फोर्स में शामिल हुए थे और बाद में भारतीय वायुसेना के पहले अधिकारियों में शामिल हैं। 01 अप्रैल, 1954 को ही वह भारतीय वायुसेना के पहले प्रमुख बनाए गए थे। उन्होंने भारतीय वायुसेना को दुनिया की ताकतवर वायुसेना बनाने में अहम भूमिका निभाई। कहते हैं कि कुछ लोग मुंह में चांदी का चम्मच लेकर पैदा होते हैं और कुछ अपनी मेहनत से सब कुछ हासिल करते हैं। सुब्रतो मुखर्जी बाद वाली श्रेणी में आते हैं। उनका जीवन ठोस इरादे, समर्पण और पूरी तरह से सेवा के हितों के लिए प्रतिबद्ध होने की मिसाल है। ब्रितानीराज में भारत के लोग काफी समय से रक्षा सेवाओं में उच्च पदों पर भारतीय के प्रतिनिधित्व की मांग कर रहे थे। ब्रिटिश सरकार इस आवाज की अनसुनी कर रही थी। लेकिन वर्ष 1930 आते-आते ब्रिटिश सरकार समझ गई थी कि ज्यादा समय तक वह भारतीयों की मांग को नहीं टाल सकती। इसके बाद धीरे-धीरे सेनाओं का ‘भारतीयकरण’ किया गया। इसका नतीजा यह हुआ कि 08 अक्टूबर, 1932 को भारतीय वायुसेना अस्तित्व में आई।

सुब्रतो मुखर्जी का जन्म 05 मार्च, 1911 को पश्चिम बंगाल के एक प्रमुख परिवार में हुआ। उनके पिता सतीश चंद्र मुखर्जी आईसीएस अफसर थे और मां चारुलता मुखर्जी प्रसिद्ध डॉक्टर की बेटी थीं। उनके दादा ब्रह्म समाज से जुड़े थे। उनके नाना प्रेसिडेंसी कॉलेज के पहले भारतीय प्रधानाचार्य थे। 1939 में उनकी शादी शारदा पंडित से हुई। वह प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता थीं जो बाद में गुजरात और फिर तत्कालीन आंध्र प्रदेश की राज्यपाल बनीं। उनका एक बेटा है। अपने तीन भाई-बहन में सुब्रतो सबसे छोटे थे। उनका शुरुआती जीवन पश्चिम बंगाल के कृष्णनगर और चिनसूरा में गुजरा। शुरू से ही वह वायुसेना में शामिल होने का सपना देखते थे। उनको वायुसेना में शामिल होने की प्रेरणा अपने चाचा इंद्र लाल रॉय से मिली थी। रॉय रॉयल फ्लाइंग कोर में तैनात थे।

सुब्रतो की शुरुआती शिक्षा कलकत्ता के डायोसेशन स्कूल और लॉरेटो कॉन्वेंट एवं यूके के हैम्पस्टीड में हुई। 1927 में उन्होंने बीरभूम जिले स्कूल से मैट्रिक पास किया। उसके बाद उन्होंने प्रेसिडेंसी कॉलेज, कलकत्ता में दाखिला लिया और एक साल बाद यूके गए जहां कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में अध्ययन किया। वर्ष 1929 में सुब्रतो मुखर्जी ने क्रेनवेल एंट्रेंस एग्जामिनेशन और लंदन मैट्रिकुलेशन पास किया। चयन के बाद वह रॉयल एयर फोर्स कॉलेज, क्रेनवेल में प्रशिक्षण के लिए गए। 08 अक्टूबर, 1932 को भारतीय वायुसेना का गठन हुआ। इसमें उनको पायलट के तौर पर कमीशन किया गया। वर्ष 1933 में वह ब्रिटिश इंडिया में कराची स्थित पहले स्क्वॉड्रन में नियुक्त किए गए। दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान वह सबसे सीनियर अफसर थे और उन्होंने स्क्वॉड्रन लीडर बनाया गया। 1945 में युद्ध समाप्त होने पर उनको विशिष्ट सेवा के लिए ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश अंपायर से सम्मानित किया गया।

भारत की आजादी और बंटवारे के दौरान उन्होंने भारतीय वायुसेना के पुनर्गठन में मदद की। भारतीय वायुसेना को उन्होंने दुनिया की ताकतवर वायुसेना बनाया। यही वजह है कि उनको फादर ऑफ द इंडियन एयर फोर्स कहा जाता है। 1952 में वह अडवांस्ड ट्रेनिंग के लिए यूके स्थित इंपीरियल डिफेंस कॉलेज गए। 1954 में वह वहां से लौटे और भारतीय वायुसेना के कमांडर-इन-चीफ का प्रभार संभाला। उनको एयर मार्शल की रैंक प्रदान किया गया। बाद में कमांडर-इन-चीफ पद भारतीय वायुसेना में चीफ ऑफ द एयर स्टाफ पद हो गया।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र
1895ः भौतिक शास्त्री विल्हेम कोनार्ड रॉन्टजन ने की एक्स-रे की खोज।

1917ः वाल्दमीर लेनिन को अक्टूबर क्रांति के बाद पीपुल्स कमीसार अधिकृत किया गया।

1923ः एडोल्फ हिटलर ने जर्मन सरकार को अपदस्थ करने की नाजियों की कोशिश का नेतृत्व किया।

1933ः तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति फ्रेंकलीन रूजवेल्ट ने मंदी के बाद 40 लाख लोगों का रोजगार देने के लिए सिविल वर्क्स एडमिनिस्ट्रेशन का गठन किया।

1945ः हांगकांग में नौका दुर्घटना। 1550 लोगों की मौत।

1957ः ब्रिटेन ने क्रिसमस द्वीप समूह के पास परमाणु परीक्षण किया।

1960ः जॉन एफ केनेडी अमेरिका के 35 वें राष्ट्रपति बने।

1967ः अमेरिका ने नेवादा में परमाणु परीक्षण किया।

1988ः चीन में भूकंप। 900 लोगों की मौत।

1990ः आयरलैंड में पहली बार महिला राष्ट्रपति बनी।

1992ः बर्लिन में नस्लवाद के खिलाफ प्रदर्शन में तीन लाख लोगों ने हिस्सा लिया।

1998ः बांग्लादेश के प्रथम प्रधानमंत्री शेख मुजीबुर्रहमान हत्याकांड में 15 लोगों को मृत्युदंड।

1999ः राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर ने एक दिवसीय क्रिकेट मैच में 331 रन की साझेदारी कर विश्व कीर्तिमान स्थापित किया।

2000ः बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन ने न्यूयार्क सीट पर जीत दर्ज कर इतिहास रचा।

2008ः भारत का पहला मानव रहित अंतरिक्ष मिशन चन्द्रयान -1 चन्द्रमा की कक्षा में पहुंचा।

2016ः भारत में 500 और 1000 रुपये के नोटों का विमुद्रीकरण।

जन्म

1920ः भारत की प्रसिद्ध कथक नृत्यांगना सितारा देवी।
1922ः दक्षिण अफ्रीकी मशहूर सर्जन क्रिस्चियान बर्नार्ड।
1927ः भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी।

निधन
1959ः प्रसिद्ध साहित्यकार लोचन प्रसाद पाण्डेय।

1960ः भारत के पहले वायुसेना प्रमुख सुब्रतो मुखर्जी।

1661ः सिख धर्म गुरु हर राय।

1977ः दक्षिण भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध निर्देशक बोमिरेड्डी नरसिम्हा रेड्डी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here