अब देश को जोड़ेंगे सेना के 63 सेतु… कैसे? ये जानने के लिए पढ़ें खबर

सीमाई क्षेत्रों में संसाधन विकास की ओर केंद्र सरकार लगातार प्रयत्नशील है। इसके साथ राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी निरंतर आधुनिक संसाधनों का विकास किया जा रहा है। देश अत्याधुनिक अग्नि प्राइम बैलिस्टिक मिसाइल और पिनाका रॉकेट के उन्नत मॉडल का सफल परीक्षण भी इसी समय कर चुका है।

सीमा सड़क संगठन ने एक बड़ी सफलता प्राप्त की है। जिससे राष्ट्र के सीमावर्ती और दुर्गम भागों को जोड़ने का मार्ग प्रशस्त हुआ है। रक्षा मंत्री ने एक साथ 63 सेतु को राष्ट्र को समर्पित किया। इसके माध्यम से अब सेना के संसाधन और दुर्गम क्षेत्रों में रहनेवाले लोगों तक सुविधाएं पहुंचने में सहायता होगी।

सेतु का अर्थ दो भिन्न क्षेत्रों को जोड़ना होता है, यही कार्य भारतीय रक्षा मंत्रालय लगातार कर रहा है। चीन से संभावित खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार पिछले कई वर्षों से सीमाई क्षेत्र में सड़कों के निर्माण को बढ़ावा दे रही है। इसका परिणाम भी सामने आ रहा है। सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित 63 सेतु को एक साथ राष्ट्र की सेवा में समर्पित किया। इसका कार्यक्रम केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में लेह से 88 किलोमीटर दूर क्यूंगम में आयोजित किया गया था।

ये भी पढ़ें – जिएं तो जिएं कैसे मुंबई में यूपी-बिहार के लोग?

इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा लद्दाख के उपराज्यपाल श्री आरके माथुर, लद्दाख के सांसद श्री जामयांग त्सेरिंग नामग्याल, उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर-कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी, डीजी बॉर्डर की उपस्थिति में किया। सड़कें लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी और रक्षा मंत्रालय, भारतीय सेना, बीआरओ और नागरिक प्रशासन के अन्य वरिष्ठ नागरिक और सैन्य अधिकारी।

सेतु से सेना को मजबूती
क्यूंगम में बना 50 मीटर का सेतु सिंगल स्पैन स्टील सुपर स्ट्रक्चर ब्रिज है जिसने वर्तमान बेली ब्रिज की जगह ले ली। इससे भारी हथियार प्रणालियों की निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित होगी। जिसमें बंदूकें, टैंक और अन्य विशेष उपकरण शामिल हैं। लेह-लोमा रोड, जो लेह को चुमाथांग, हैनली और त्सो मोरोरी झील जैसे स्थानों से जोड़ती है वह पूर्वी लद्दाख में फॉरवर्ड पोस्ट के क्षेत्रों तक पहुंचने में महत्वपूर्ण है।

इसके साथ 62 और पुलों का उद्घाटन किया गया। लद्दाख में 11, जम्मू और कश्मीर में चार, हिमाचल प्रदेश में तीन, उत्तराखंड में छह, सिक्किम में आठ, नागालैंड और मणिपुर में एक-एक और अरुणाचल प्रदेश में 29। परियोजनाओं की संयुक्त लागत 240 करोड़ रुपये है और वे सीमावर्ती क्षेत्रों में कनेक्टिविटी को जबरदस्त बढ़ावा देंगे।

अपने ही रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा
एक बार में 63 पुलों के उद्घाटन के साथ, बीआरओ ने 2020 में लॉन्च किए गए 44 पुलों के अपने ही रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है। ये 63 पुल, श्री राजनाथ सिंह द्वारा 17 जून, 2021 को राष्ट्र को समर्पित 12 सड़कों के साथ मिलकर, 75 का एक गुलदस्ता बनाते हैं। बीआरओ द्वारा पूरी की गई बुनियादी ढांचा परियोजनाएं, जब राष्ट्र अपनी स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ मना रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here