यूपी में तीन और आतंकी चढ़े एटीएस के हत्थे! खतरनाक षड्यंत्र का पर्दाफाश

कुख्यात आतंकी संगठन अलकायदा उत्तर प्रदेश को दहलाने की बड़ी साजिश रच रहा था। ये 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस से पहले कई शहरों में बड़ी आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे।

उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधी दस्ते यानी एटीएस ने तीन और आतंकवादियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। इससे पहले 11 जुलाई को प्रदेश की राजधानी लखनऊ से अलकायदा के अंसार गजवातुल हिंद मॉड्यूल के दो आतंकवादियों मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया गया था। उनसे पूछताछ के आधार पर तीन और आतंकियों को 14 जुलाई को गिरफ्तार किया गया है। इनके नाम शकील, मोहम्मद मुस्तकीन और मोहम्मद मईद बताए गए हैं। ये तीनों लखनऊ के ही रहनेवाले हैं।

मिली जानकारी के अनुसार इन तीनों को पूछताछ के लिए एटीएस कार्यालय बुलाया गया था। पूछताछ से मिली जानकारी के बाद इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया। इन तीनों ने आतंकवादी साजिश में शामिल होने की बात स्वीकार की है।

तीनों आतंकी लखनऊ के रहनेवाले हैं
गिरफ्तार किए गए तीनों आतंकी लखनऊ के रहनेवाले हैं। इनमें से शकील लखनऊ के बांसमंडी क्षेत्र का रहने वाला है, जबकि मोहम्मद न्यू हैदरगंज कैंपल रोड का निवासी है। तीसरा आरोपी मोहम्मद मुस्तकीन मूल रुप से मुजफ्फरपुर का रहने वाला है, लेकिन वह लखनऊ के सीतापुर रोड स्थित मदेय गंज में रह रहा था।

अयोध्या, मथुरा और काशी को दहलाने की थी साजिश
बता दें कि कुख्यात आतंकी संगठन अलकायदा उत्तर प्रदेश को दहलाने की बड़ी साजिश रच रहा था। ये 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस से पहले कई शहरों में बड़ी आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे। मिली जानकारी के अनुसार इनका इरादा अयोध्या, मथुरा और काशी में आतंकी वारदातों को अंजाम देने का था।

ये भी पढ़ेंः इस मुद्दे पर यूपी की योगी सरकार के साथ आए कांग्रेस के मंत्री!

कई युवकों के अलकायदा से जुड़ो होने की जानकारी
अब तक एटीएस को जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार उत्तर प्रदेश के कई युवक अलकायदा से जुड़े इस संगठन में शामिल हुए हैं। एटीएस अधिकारी इसकी गहणता से जांच कर रहे हैं। कई युवकों को मानव बम बनाए जाने की भी जानकारी सामने आई है। इसके बाद आइबी समेत अन्य खुफिया एजेंसियां भी सक्रिय हो गई हैं। एटीएस कानपुर समेत कई शहरों में छापेमारी कर रही है। इस दौरान संदीग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

निशाने पर थे कई भाजपा नेता
मिली जानकारी के अनुसार इनके निशाने पर कई भारतीय जनता पार्टी के नेता भी थे। बता दें कि उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं। उसकी पृष्ठभूमि पर इस तरह की आतंकी साजिश का पर्दाफाश होना आतंकवादियों के खतरनाक इरादे को दर्शाता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि आतंकी मिनहाज का घर केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर के घर से कुछ ही दूरी पर स्थित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here