ये है नारायणपुर का बदला, गढचिरोली में पांच ढेर

महाराष्ट्र का गढ़चिरौली जिला देश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में आता है। यहां नक्सल विरोधी कार्रवाइयां चलती रहती हैं। लेकिन छत्तीसगढ़ में नारायणपुर में 24 मार्च को सुरक्षा बलों पर हुए हमले के बाद इसे गंभीरता से लिया जा रहा है।

महाराष्ट्र के गढ़चिरोली में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की खबर है। जिसमें 5 नक्सलियों की मारे जाने की सूचना मिली है। इस विषय में नक्सल रेंज के आईजी संदीप पाटील ने जानकारी दी है।

यह मुठभेड़ कुरखेडा तहसील के खोब्रामेंढा-हेटालकसा के जंगल मे हुई थी। रंगपंचमी के दिन यह मुठभेड़ होने की जानकारी प्राप्त हुई है। यह नक्सल विरोधी कार्रवाई में बड़ी सफलता मानी जा रही है। इसे पुलिस के नक्सल विरोधी सी-६० दल के जवानों ने सफलता से पूरा किया है। इसके बाद जंगल परिसर में पुलिस ने खोजबीन अभियान तेज कर दिया है।

नक्सलियों ने पहले की फायरिंग
नक्सलियों के खोब्रामेंढा-हेटालकसा के जंगल में आने की गुप्त सूचना प्रशासन को मिली थी। जिसके बाद पुलिस के नक्सल विरोधी अधियान दल सी 60 ने क्षेत्र को घेर लिया। इसमें 60-70 नक्सलियों ने सुरक्षा दल पर फायरिंग शुरू कर दी। इसके प्रत्युत्तर में की गई कार्रवाई में पांच नक्सली ढेर हो गए। सुरक्षा बलों की जबरदस्त कार्रवाई से बड़ी संख्या में नक्सली भाग खड़े हुए हैं। इसमें सुरक्षा दलों ने प्रेशर कुकर बम, राइफल आदि बरामद किये हैं।

नारायणपुर का बदला
छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने जवानों की बस को आईईडी धमाके में उड़ा दिया था। इस घटना में पांच जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी जबकि, दस जवान घायल हो गए थ। एसपी मोहित गर्ग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार नारायणपुर में 24 डीआरजी के जवान बस से जा रहे थे। इस बीच घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने कडेनार से मंदोडा के रास्ते में आईईडी धमाका करवा दिया। विस्फोट इतना भीषण था कि घटनास्थल पर ही पांच जवानों की जान चली गई, जबकि दस जवान घायल हो गए थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here