मुंबई में इतने मुद्दे! फिर भी क्यों मौन हैं मंगल प्रभात लोढ़ा?

हर साल की तरह इस साल भी देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में दो दिनों की बारिश के चलते जल भराव से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। उसके बाद से शिवसेना एक बार फिर विपक्ष के राडार पर आ गई है। इसके लिए तमाम विपक्षी नेताओं ने शिवसेना की कड़ी आलोचना की है। लेकिन इतना सब होने के बावजूद भारतीय जनता पार्टी के मुंबई अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा कहीं नजर नहीं आए। राज्य में भाजपा की ओर से शिवसेना की विभिन्न मुद्दों पर कड़ी आलोचना की जा कर रही है लेकिन मुंबई के पार्टी अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा मौन हैं। इसलिए पार्टी कार्यकर्ता पूछ रहे हैं कि क्या लोढ़ा पार्टी के मुंबई अध्यक्ष पद पर नाम के लिए हैं?

भारतीय जनता पार्टी के कई नेता भारतीय जनता पार्टी के मुंबई अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा से पार्टी कार्यकर्ताओं को महत्व नहीं दिए जाने को लेकर नाराज बताए जा रहे हैं। जबकि मुंबई महानगरपालिका का चुनाव नजदीक है और शिवसेना के खिलाफ इतने सारे मुद्दे हैं। इस स्थिति में भी मंगलप्रभात लोढ़ा कहीं नहीं दिख रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः मुंबईः फ्लाईओवर के नामकरण पर गरमाई राजनीति ! अब वीएचपी ने की ये मांग

शेलार-भातखलकर से नाराजगी
एक तरफ भाजपा के मुंबई अध्यक्ष मौन हैं, तो दूसरी ओर मुंबई भाजपा के पूर्व अध्यक्ष आशीष शेलार का रुतबा पार्टी में अब भी बरकार है। जब शेलार मुंबई के अध्यक्ष थे तो मुंबई में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। इतना ही नहीं, 2017 के मनपा चुनाव में भाजपा के ज्यादा पार्षद चुने गए थे। महानगर के पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि वह शेलार की कड़ी मेहनत का परिणाम था। शेलार आज भी मुंबई के मुद्दे पर आवाज उठा रहे हैं। दरअस्ल शेलार और अतुल भातखलकर वो काम कर कर रहे हैं, जो भाजपा के मुंबई अध्यक्ष को करना चाहिए। लेकिन मंगलप्रभात लोढ़ा को ये सब पसंद नहीं आ रहा है। इस स्थिति में पार्टी के कुछ नेताओं व कार्यकर्ताओं को लगता है कि चुनाव से पहले पार्टी के मुंबई अध्यक्ष का बदलाव जरुरी है।

ये भी पढ़ेंः मुंबईः शिवसेना विधायक ने ठेकेदार को दी डोज पर कोरोना के नियमों की उड़ाईं धज्जियां

लोढ़ा की कार्यकारिणी के सदस्य भी गायब
मुंबई भाजपा अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा ने कार्यकारिणी की घोषणा की थी। विधायक पराग अलवानी और योगेश सागर समेत 13 विधायकों को उपाध्यक्ष और अमित साटम व सुनील राणे को महासचिव बनाया गया है। लेकिन इस कार्यकारिणी के नेता भी अपने निर्वाचन क्षेत्रों तक सीमित हैं। बता दें कि कैप्टन सेलवन, राजहंस सिंह, शलाका साल्वी, राजेश हटले, डॉ. शिरीष जाधव, प्रकाश दरेकर और अमरजीत सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है। विनोद शेलार, महेश पारकर, प्रवीण छेड़ा, एकनाथ संगम और अमोल जाधव को सचिव नियुक्त किया गया है। शीतल गंभीर-देसाई को महिला मोर्चा का प्रमुख नियुक्त किया गया है, जबकि जयप्रकाश सिंह को उत्तर भारतीय मोर्चा का प्रमुख नियुक्त किया गया है, लेकिन ये सब अब गायब हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here