पश्चिम बंगाल चुनावः आजमाए जा रहे हैं हर तरह के दांव!

पश्चिम बंगाल में कराए गए तीसरी चरण के मतदान में हर तरह के अपराध किए गए। हत्या से लेकर इवीएम की धांधली तक के दांव वहां खेले गए।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तीसरे चरण के मतदान में भी वो सब देखने को मिला, जो पहले और दूसरे चरण के मतदान के दौरान देखे गए थे। हत्या, मारपीट से लेकर हर तरह की धांंधली तक की खबरें पूरे दिन आते रहीं। इस पर तुर्रा ये कि भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस पार्टी दोनों ही पार्टियां एक दूसरे पर निशाना साधते रहीं। पूरे दिन आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी रहा। इस चरण में कुल 3 जिलों की 31 सीटों पर मतदान कराए गए।

भाजपा के आोरप

1-हुगली जिले में मतदान शुरू होने से पहले ही भारतीय जनता पार्टी के समर्थक की मां की हत्या कर दी गई। भाजपा का आरोप है कि हत्या टीएमसी कार्यकर्ताओं ने कराई है। हालांकि टीएमसी ने इस आरोप से इनकार किया है।

2-बीरभूम के दुबराजपुर इलाके में भाजपा उपाध्यक्ष पतिहार डोम की हत्या कर दी गई है। भाजपा ने पतिहार की हत्या का आरोप टीएमसी पर लगाया है।

3-हावड़ा जिले की उलूबेरिया विधानसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के घर चार इवीएम मशीन और इतनी ही संख्या में वीवीपैट बरामद की गई हैं। इसके बाद एक चुनाव अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है।

4-तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए भगवा पार्टी के डायमंड हार्बर से उम्मीवार दीपक हलदर ने आरोप लगाया है कि टीएमसी के कार्यकर्ता मतदाताओं को मतदान केंद्रों पर नहीं जाने दे रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः मुंबई को आतंकी धमकी, निशाने पर ये नेता भी!

टीएमसी के आरोप
प्रदेश की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर मतदान को प्रभावित करने के लिए केंद्रीय बलों के इस्तेमाल किए जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘लगातार हमारी ओर से शिकायत करने के बावजूद केंद्रीय बलों का दुरुपयोग मतदान को प्रभावित करने के लिए किया जा रहा है और निर्वाचन आयोग लगातार मूक दर्शन बना हुआ है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here