बाल-बाल बचे सुवेंदु अधिकारी!

पश्चिम बंगाल की 30 सीटों पर दूसरे चरण में मतदान कराए जा रहे हैं। इस दौरान भाजपा उम्मीदवार सुवेंदु अधिकारी के काफीले पर हमला किया गया है।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में प्रतिष्ठा की प्रश्न बन चुकी सीट नंदीग्राम से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार सुवेंदु अधिकारी के काफिले पर हमला हुआ है। वे एक मतदान केंद्र पर गए थे। वहां से लौटते समय उनके काफीले पर पत्थराव किया गया। इस घटना में सुवेदु अधिकारी या उनके किसी समर्थक को नुकसान नहीं पहंचा है। लेकिन मीडिया की कुछ गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गई हैं। बता दें कि प्रदेश में दूसरे चरण में कुल 30 सीटों पर मतदान कराए जा रहे हैं।

एक विशेष समुदाय पर आरोप
इस हमले को लेकर सुवेंदु अधिकारी ने एक विशेष समुदाय पर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि यह हमला एक विशेष समुदाय के लोगो ने किया है। अधिकारी ने कहा कि प्रदेश में जंगलराज चल रहा है। भाजपा नेताओं पर जय बांग्ला के नारे लगाते हुए हमले किए जा रहे हैं। यह बंगाल नहीं बल्कि बांग्लादेश का नारा है। इस प्रदेश को बांग्लादेश बनाने की चाल चली जा रही है।

ये भी पढ़ेंः नंदीग्राम में महासंग्राम! जानिये… किसमें कितना है दम?

ये भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल चुनाव में इन सीटों पर भाजपा- टीएमसी में कांटे की टक्कर!

भाजपा ने साधा टीएमसी पर निशाना
इस हमले की आलोचना करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि देश के किसी भी प्रदेश में इस तरह की हिंसा नहीं होती है। उन्होंने कहा कि बंगाल को बांग्लादेश बनाने की चाल चली जा रही है। घोष ने कहा कि एक विशेष समुदाय को आगे कर टीएमसी राजनैतिक हिंसा कर रही है। घोष ने कहा कि यह आरपार की लड़ाई है और इस बार टीएमसी खत्म हो जाएगी।

एबार भाजपा सरकार
इस हमले को लेकर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने भी टीएमसी पर निशाना साधा है। केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने  हमले की आलोचना करते हुए कहा है कि दीदी कितना भी जोर लगा लें, इस बार भाजपा सरकार का आना तय है।

नंदीग्राम
पश्चिम बंगाल में कराए जा रहे विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सर्वाधिक चर्चित सीट है। इसका कारण यह है कि यहां राजनीति के दो धुरंधरों में आमने-सामने की टक्कर है। इस सीट से पूर्व विधायक सुवेंदु अधिकारी जहां इस बार टीएमसी के बदले भारतीय जनता पार्टी की ओर से चुनावी अखाड़े में उतरे हैं, वहीं उन्हें प्रदेश की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी टक्कर दे रही हैं। इस हालत में यह समझना मुश्किल नहीं है कि इस सीट पर चुनावी महासंग्राम का कितना महत्व है। इस निर्वाचन क्षेत्र का महत्व इसी बात से भी समझा जा सकता है कि यहां अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर भारतीय जनता पार्टी के चाणक्य कहे जानेवाले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जैसे भाजपा नेता कई बार सभा, रैली और रोड शो कर चुके हैं।

30 सीटों के लिए मतदान जारी
दूसरे चरण की 30 सीटों में से 9 सीट पूर्वी मेदिनीपुर जिले की हैं, जबकि बांकुरा जिले की कुल 8 सीट हैं।  इसके साथ ही पश्चिमी मेदिनीपुर की 9 और साउथ परगना की 4 सीट शामिल हैं। 2016 के विधानभा चुनाव में इन सीटों पर टीएमसी ने क्लीन स्वीप किया था। लेकिन इस बार समीकरण बदला हुआ है। भारतीय जनता पार्टी ममता के किले में सेंध लगाने की तैयारी कर चुकी है। वैसे तो सभी 30 सीटों पर दोनों पार्टियों के साथ ही कांग्रेस व वाम पार्टियों के बीच कड़ी टक्कर है। लेकिन इनमें से नंदीग्राम और डोबरा दोनों ही पार्टियों के लिए काफी महत्वपू्र्ण हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here