उत्तर प्रदेश की इस योजना से लट्टू हुआ विश्व श्वास्थ्य संगठन! पढ़ें योगी जी की नई नाति

उत्तर प्रदेश कोरोना संक्रमण के मामले में लगातार शीर्ष पांच राज्यों में बना हुआ है। प्रदेश में इस समय सबसे बड़ी समस्या ग्रामीण अंचल में कोरोना के तेजी से पैर पसारने से उत्पन्न हो गई है।

योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में कोरोना के संक्रमण को खत्म करने के लिए बड़ी योजना पर क्रियान्वयन शुरू किया है। इसके अंतर्गत प्रदेश में घर-घर स्वास्थ्य कर्मी जाएंगे और लोगों की जांच करेंगे। यह निर्णय प्रदेश के ग्रामीण अंचल में प्रभावी हो रहे कोरोना के संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से शुरू की गई है।

उत्तर प्रदेश का ग्रामीण अंचल कोरोना की गंभीर पीड़े से जूझ रहा है। गांवों में ज्वर जान का दुश्मन बन गया है। पूर्वांचल के जिलों में तो बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हो रहे हैं जिसके फलस्वरूप लोगों की मृत्युदर भी बढ़ी है। इससे निपटने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ी योजना शुरू की है। जिसके अंतर्गत अब घर-घर जाकर कोरोना जांच की जाएगी।

ये भी पढ़ें – वीर सावरकर ‘हिंदू हृदयसम्राट’ ही नहीं ‘हिंदुत्व’ के निर्माता थे – डॉ.नीरज देव

ऐसे होगी कोरोना की ट्रेसिंग

  • राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधीन कुल 1,41,610 स्वास्थ्य कर्मी करेंगे जांच
  • घर-घर जाकर पता करेंगे कोविड 19 के एक्टिव केसेस
  • यही कर्मी करेंगे कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग का कार्य भी
  • इनके कार्यों के संचालन के लिए 21,242 निरिक्षक किये गए तैनात
  • इसके अंतर्गत कुल 97,941 गांव में परीक्षण
  • राज्य की कुल जनसंख्या 25 करोड़ के आसपास

टीके की वैश्विक निविदा निकालनेवाला पहला राज्य

  • योगी सरकार ने 7 मई को जारी की कोविड 19 से रक्षा टीके की वैश्विक निविदा
  • 4 करोड़ डोज के लिए जारी की गई है निविदा
  • वैश्विक निविदा जारी करनेवाला उत्तर प्रदेश पहला राज्य
  • 18 से 44 आयु वर्ग के टीकाकरण की अनुमति मिलने पर टीका ऑर्डर देने वाला भी पहला राज्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here