यूपी चुनाव 2022: भाजपा को सबक सिखाने के लिए शिवसेना का बड़ा प्लान

लखनऊ में 10 सितंबर को उत्तर प्रदेश के शिवसेना नेताओं की बैठक हुई। बैठक में पार्टी संगठन और आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की रणनीति पर चर्चा की गई।

शिवसेना ने घोषणा की है कि वह उत्तर प्रदेश की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बड़ी बात यह भी है कि शिवसेना यह चुनाव अपने दम पर लड़ेगी और पार्टी किसी अन्य दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी। शिवसेना के उत्तर प्रदेश के प्रभावशाली नेता विश्वजीत सिंह ने इस संबंध में एक पत्रक जारी किया है। शिवसेना ने इस पत्रक में उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की है। पत्रक में कहा गया है कि शिक्षा, रोजगार, कानून व्यवस्था जैसे मुद्दे सत्तारूढ़ भाजपा के कार्यकाल के दौरान बढ़ गए हैं। इसके साथ ही घोषणा की गई है कि शिवसेना भाजपा को सबक सिखाने के लिए सभी निर्वाचन क्षेत्रों में उम्मीदवार उतारेगी।

लखनऊ में 10 सितंबर को उत्तर प्रदेश के पार्टी नेताओं की बैठक हुई। बैठक में पार्टी संगठन और आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की रणनीति पर चर्चा की गई। उत्तर प्रदेश के शिवसेना प्रमुख विश्वजीत सिंह ने कानून-व्यवस्था बिगड़ने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की। सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जंगल राज शुरू हो गया है और महिलाओं तथा लड़कियों पर अत्याचार हो रहा है।

ब्राह्मणों की उपेक्षा
शिवसेना की ओर से जारी पत्रक में  कहा गया है कि सरकार ब्राह्मणों के साथ भेदभाव कर रही है। इसके साथ ही राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब है। यहां तक कि मृत कोरोना रोगियों के दाह संस्कार के लिए सामग्री तक उपलब्ध नहीं थे। राज्य में बंद पड़े स्कूल भी मनचाहे तरीके से छात्रों से फीस वसूल रहे हैं। सरकार शिक्षा सम्राटों के समर्थन में निर्णय ले रही है। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद भी स्कूल फीस में 15 फीसदी की कटौती नहीं की गई है, जबकि महाराष्ट्र सरकार ने छात्रों को फीस में 15 प्रतिशत की छूट देने के लिए कानून बनाया है। उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी और महंगाई के कारण नौजवान राज्य छोड़कर जा रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः गुजरात में सियासी उठापटक… अगला सीएम कौन?

यूपी के लोगों की आवाज बनने का दावा
पत्रक में दावा किया गया है कि शिवसेना उत्तर प्रदेश के लोगों की आवाज बनेगी। शिवसेना सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारकर भाजपा को सबक सिखाएगी। इसके साथ ही सभी विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी समन्वयक नियुक्त किए गए हैं। सिंंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के शिवसेना नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात करेगा और उन्हें चुनाव पर एक रिपोर्ट पेश करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here