गडकरी ने की पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा! जानिये, कब-कब दिया पार्टी लाइन से हटकर बयान

नागपुर से सांसद नितिन गडकरी ने देश में आपातकाल लगाने को लेकर भी भाजपा से अलग राय रखी थी। उन्होंने इंदिरा गांधी की प्रशंसा तक करते हुए कहा था कि इंदिरा गांधी ने अपनी क्षमता को साबित करके दिखाया था।

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। नागपुर से सांसद नितिन गडकरी ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा की है। गडकरी ने कहा कि देश पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कारण ही रहेगा। केंद्रीय मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा 8 नवंबर को दिल्ली में आयोजित एक समारोह में की।

गडकरी ने कहा की मनमोहन सिंह ने 1991 में वित्त मंत्री रहते हुए आर्थिक सुधार कर देश को एक नई दिशा दिखाई। उदार अर्थव्यवस्था से देश में आर्थिक सुधारों को नई दिशा मिली। अपनी बात को मजबूती देते हुए उन्होंने कहा कि जब वे 1990 में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री थे, उनको महाराष्ट्र में सड़कों के निर्माण के लिए धन जुटाने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। नितिन गडकरी ने तो यहां तक कह दिया कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कारण ही वे महाराष्ट्र में सड़क परियोजनाओं के लिए पैसा जुटा सके थे। भारतीय जनता पार्टी की तरफ से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की इस बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहते हैं नितिन गडकरी
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के इस बयान को केंद्र सरकार की आर्थिक नीति की आलोचना के रूप में देखा जा रहा है। भाजपा संसदीय दल से बाहर किए जाने के बाद नितिन गडकरी का यह दूसरा बड़ा बयान है। इससे पहले वे नागपुर में कह चुके हैं कि किसी को भी कभी इस्तेमाल कर फेंकना नहीं चाहिए

विवादास्पद बयानों की लंबी लिस्ट 
-नितिन गडकरी ने कांग्रेस को लेकर भी एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि मैं दिल से कामना करता हूं कि कांग्रेस मजबूत बनी रहे।

-नितिन गडकरी ने कहा था कि जो लोग अपना घर नहीं संभाल सकते, वे देश भी नहीं चला सकते। गडकरी के इस बयान पर भाजपा में हलचल पैदा हो गई थी।

नितिन गडकरी अपनी ही सरकार के खिलाफ ही बयान देते रहे हैं। उन्होंने एक बार कहा था कि सपने देखने वाले नेता लोगों को अच्छे लगते हैं, लेकिन दिखाए गए सपने अगर पूरे नहीं किए जाते तो जनता उनकी पिटाई भी करती है।

-आरक्षण के मुद्दे पर भी गडकरी का बयान चर्चित रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था कि जब सरकारी नौकरियां नहीं हैं तो ऐसे में आरक्षण का क्या उचित है?

-केंद्रीय मंत्री ने इस साल सितंबर महीने में भारत विकास परिषद की बैठक में कहा था कि भारत दुनिया का अर्थव्यवस्था के रूप में पांचवा सबसे बड़ा देश है। लेकिन भारत के लोग गरीब हैं। उन्होंने कहा था कि देश में बेरोजगारी, भुखमरी, छुआछूत और जातिवाद बड़े पैमाने पर है। इतना ही नहीं, अमीर और गरीब के बीच का अंतर भी बढ़ रहा है।

-नागपुर से सांसद नितिन गडकरी ने देश में आपातकाल लगाने को लेकर भी भाजपा से अलग राय रखी थी। उन्होंने इंदिरा गांधी की प्रशंसा तक करते हुए कहा था कि इंदिरा गांधी ने अपनी क्षमता को साबित करके दिखाया था, जबकि भाजपा की स्पष्ट लाइन है कि वह आपातकाल की विरोधी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here