पवार के प्रहार पर गरजे नारायण! जानिये क्या हुआ बक-बक महाभारत में

शिवसेना के असंतुष्ट विधायकों को अब धमकियां दिये जाने का क्रम शुरू हो गया है। एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और शिवसेना मुख्य प्रवक्ता संजय राऊत ने तल्ख लहजे में बात की थी।

शिवसेना में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच हाथ से जाती सत्ता अब महाविकास आघाड़ी को खल रही है। गुरुवार शाम एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने बहुत उखड़े हुए लहजे में एकनाथ शिंदे और उनके साथी विधायकों को मीडिया के समक्ष चेतावनी दी थी। जिसका उत्तर उसी भाषा में गरजते हुए नारायण राणे ने दिया है।

क्या कहा शरद पवार ने?
उन्हें विधान सभा में आना ही होगा। उन्हें बहुमत सिद्ध करना होगा। तब उन्हें अपनी विद्रोह का मूल्य अदा करना पड़ेगा।

नारायण राणे का उत्तर
नारायण राणे ने अपने ट्वीट के माध्यम से शरद पवार, संजय राऊत और मुख्यमंत्री को भी उत्तर दिया है।

मुख्यमंत्री पर प्रहार
सम्माननीय नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे मेरे पुराने सहकारी और मित्र हैं। वे और उनके सहकारी सरकार से बाहर निकलकर राज्य के बाहर हैं। उनकी संख्या को देखते हुए भी वर्तमान मुख्यमंत्री ने शोभायात्रा निकाली यह स्वार्थी पन है।

ये भी पढ़ें – वह झटके झेल गई, अब भूकंप कैसे झेलेगी? जानें शिवसेना से कब-कब टूटे नेता

पवार को उत्तर
माननीय शरद पवार साहेब सभी को धमकी दे रहे हैं, सभागृह में आकर दिखाएं, वे आनेवाले ही हैं। वे आएंगे और अपनी इच्छानुसार मतदान करेंगे। उनके बाल को भी धक्का लगा तो घर जाना कठिन हो जाएगा।

आघाड़ी सरकार अपनी सुविधा और स्वार्थ के लिए बनी सरकार है, इसलिए कार्यों की डींगे मत मारो। कुछ लोगों ने तो कई बार विद्रोह किया है, उस विद्रोह का इतिहास महाराष्ट्र को पता है। आवश्यक न हो उस समय और उस उम्र में धमकियां देना शोभा नहीं देता।

राऊत को रौंदा
संजय राऊत तुम्हारे (शिवसेना) कितने विधायक हैं? मतदान की अपेक्षा मत करो हार की करो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here