9 साल बाद नारायण राणे की पूरी हुई इच्छा!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश पर सभी नवनियुक्त केंद्रीय मंत्रियों की जन आशीर्वाद यात्रा अपने-अपने राज्यों में जारी है। इसी तरह महाराष्ट्र में राणे ने शिवसेना प्रमुख बालासाहब ठाकरे के स्मृति स्थल से यात्रा शुरू की है।

केंद्रीय मंत्री और महाराष्ट्र के दबंग नेता नारायण राणे ने 19 अगस्त से अपना जन आशीर्वाद यात्रा का आगाज किया। इसी क्रम में वे सबसे पहले मुंबई के दादर, शिवाजी पार्क स्थित शिवसेना प्रमुख बालासाहब ठाकरे स्मृति स्थल पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया।

बालासाहब के स्मृति स्थल पर पहुंचकर उनके दर्शन करने के बाद राणे ने कहा कि मैंने शिवसेना प्रमुख बालासाहब ठाकरे के स्मृति स्थल पर आकर उनका आशीर्वाद लिया। मैं यहां आकर अभिभूत हूं। मैंने साहब से कहा, ‘साहब, आपका आशीर्वाद चाहिए। अगर आज बालासाहब होते तो वे सिर पर हाथ रखकर कहते, ‘नारायण, तरक्की करो।’ केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने शिवसेना प्रमुख का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि भले ही बालासाहब का हाथ मेरे सिर पर न हो, उनका आशीर्वाद मुझ पर हमेशा बना रहेगा। शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के निधन के बाद राणे नवंबर 2012 से अगस्त 2021 यानी 9 साल तक शिवसेना प्रमुख बालासाहब ठाकरे के स्मारक पर नहीं गए थे। 9 साल बाद राणे की यह इच्छा पूरी हुई।

मिले प्रतिसाद से अभिभूत हुए राणे
इस दौरान राणे ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में मौका देने के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस को धन्यवाद देता हूं। मंत्री बनने के डेढ़ महीने बाद हम मुंबई, महाराष्ट्र आए हैं और 19 अगस्त से भाजपा ने अपनी जन आशीर्वाद यात्रा शुरू की है। इसके लिए हम भाजपा को धन्यवाद देते हैं। अभी मैंने छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा के दर्शन किए। मैं जनता के मिल रहे प्रतिसाद से अभिभूत हूं। राणे ने कहा कि मेरे पास जो विभाग है, उससे रोजगार पैदा कर मैं लोगों की आय बढ़ाने की कोशिश करूंगा।

ये भी पढ़ेंः फिर होगा 26/11? पूर्व खुफिया अधिकारी ने दी चेतावनी

शिवसेना की ली खबर
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश पर सभी नवनियुक्त केंद्रीय मंत्रियों की जन आशीर्वाद यात्रा अपने-अपने राज्यों में जारी है। इसी तरह महाराष्ट्र में राणे ने शिवसेना प्रमुख बालासाहब ठाकरे के स्मृति स्थल से यात्रा शुरू की है। उसके बाद राणे स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक पर आए और वीर सावरकर की प्रतिमा के दर्शन किए।

सभी के लिए होता है स्मारक
जब नारायण राणे ने बालासाहब ठाकरे स्मृति स्थल से अपनी आशीर्वाद यात्रा शुरू करने की घोषणा की थी, तब शिवसेना द्वारा उनका विरोध करने की बातें कही जा रही थी। इस बारे में पूछे जाने पर राणे ने कहा कि किसी भी व्यक्ति या देवता का स्मारक सभी के लिए होता है। किसी को उनके दर्शन का विरोध नहीं करना चाहिए। उसकी भावनाओं पर सम्मान किया जाना चाहिए। अगर किसी को कोई आपत्ति है तो वह सीधे बोले, बाएं-दाएं नहीं। हम उसी भाषा में जवाब देने में सक्षम हैं। लेकिन इस पवित्र स्थल पर आकर किसी के विरोध में बयानबाजी करना उचित नहीं है।

जाने वाली है शिवसेना की सत्ता
राणे ने कहा कि मुंबई महानगरपालिका चुनाव मेरी जिम्मेदारी है। भाजपा मुझे इसके लिए क्या जिम्मेदारी देने वाली है, यह अभी तक स्पष्ट नहीं है। मैं बता देना चाहता हूं कि मुंबई मनपा की पिछले 32 साल से चली आ रही सत्ता अब जाने वाली है। नारायण राणे ने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा के प्रतिसाद को देखने के बाद शिवसेना को एहसास हो गया होगा कि मुंबई मनपा में क्या होने वाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here