राणे ने साधा निशाना, पूछे ऐसे सवाल,”कौन है नवाब मलिक, कौन है उसका दामाद…?”

महाराष्ट्र में नवाब मलिक और समीर वानखेड़े का मामला अब राजनैतिक रुप धारण कर चुका है। इस मामले में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने मलिक पर निशाना साधा है।

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने 31 अक्टूबर को बुलढाणा में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता और अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल पर जमकर निशाना साधा।जब मीडिया ने राणे से मलिक और समीर वानखेड़े मामले में पूछा, तो केंद्रीय मंत्री ने कहा, “नवाब मलिक कौन है? उसका दामाद कौन है? उसे अपनी पृष्ठभूमि देखनी चाहिए और फिर दूसरों के बारे में बात करनी चाहिए।”

क्या समीर वानखेड़े के पीछे केंद्र सरकार है, इस सवाल का जवाब देते हुए राणे ने मजाक करते हुए कहा, “मैं अभी दिल्ली जाऊंगा तो मोदी साहब से पूछूंगा कि क्या हम वानखेड़े के पीछे हैं।”

नवाब मलिक के आरोप का दिया करारा जवाब
बता दें कि नवाब मलिक ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर आरोप लगाया है कि चेंबूर का एक व्यक्ति फडणवीस का करीबी है और समीर वानखेड़े लगातार ईडी के संपर्क में थे। यह पूछे जाने पर राणे ने कहा, “कौन किसका मित्र है, उससे मलिक को लेनादेना। वह मेरा भी मित्र है, मित्र नहीं तो वह हमारा कार्यकर्ता है। मैं भी चेंबूर से हूं। मेरा बचपन, मेरा जीवन चेंबूर में बीता और वह आतंकवादी नहीं है। वह ईडी के संपर्क में है क्योंकि वह नंबर दो लोगों के बारे में अच्छी जानकारी देता है। पंढरपुर की तीर्थ यात्रा पर जाते समय छगन भुजबल को क्यों गिरफ्तार किया गया था? उनसे पूछो, अब वह बड़ी-बड़ी बात करता है। ”

ये भी पढ़ेंः नवाब मलिक को लेकर भिड़े ‘पाटील’ और ‘मुंडे’ ! जानिये, किसने क्या कहा

मंत्रियों पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप
नवाब मलिक ने आरोप लगाया है कि समीर वानखेड़े पहले से ही ईडी के संपर्क में रहे हैं और वे महाराष्ट्र विधानमंडल के शीतकालीन सत्र में इस संबंध में पूरा खुलासा करेंगे। इस बारे में पूछने पर राणे ने कहा,” किसका सत्र? हमारे पास 105 विधायक हैं, भाजपा के पास 105 हैं। हमारी ताकत कहीं कम नहीं है। समीर वानखेड़े ने क्या किया? क्या आप उन लोगों का पक्ष लेते हैं, जो गलत करते हैं? एक मंत्री भ्रष्टाचार कर 24 हजार करोड़ रुपए कमा रहा है। मीडिया को किसका पक्ष लेना चाहिए? भ्रष्टाचारियों का या भ्रष्टाचार को रोकने वालों का ? मुझे बताओ, एक मंत्री 5,000-6,000 करोड़ रुपए, कारोबार से ला रहा है, करोड़ों रुपए कहां से मिले? भ्रष्ट, शोषित लोगों से ना? चिंता करने की जरुरत नहीं है, वहां हमारे देवेंद्र फडणवीस हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here