जानिये… केजरीवाल के दावे पर क्या है सबसे बड़ा सवाल?

बिजली,पानी और सड़क जैसे संसाधनों को लेकर तमाम तरह के दावे करनेवाले केजरीवाल सरकार की आंखें प्रदूषण को लेकर जारी इस रिपोर्ट को देखकर खुल जाएंगी।

केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी शासित राज्य सरकारों की लगातार आलोचना करते रहनेवाले दिल्ली के मुख्यमंत्री तथा आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के देश की राजधानी दिल्ली के विकास और सुविधा संपन्न होने के दावे की पोल खुल गई है। बिजली,पानी और सड़क जैसे संसाधनों को लेकर तमाम तरह के दावे करनेवाले केजरीवाल सरकार को इस रिपोर्ट में किए गए खुलासे के बाद देश की राजधानी दिल्ली की स्थिति का अहसास हो जाना चाहिए। रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली विश्व की सबसे प्रदूषित राजधानी है।

भारत में प्रदूषण बढ़ने के सबसे बड़े कारक परिवहन, खाना बनाने से लेकर तमाम तरह के कामों के लिए इस्तेमाल होनेवाले ईंधन, बिजली उत्पादन और उद्योग-धंधे तथा कचरा व पराली को जलाया जाना है।

ठंडी में दिल्ली में बढ़ जाता है प्रदूषण
बता दें कि सर्दी के मौसम में दिल्ली में प्रदूषण इतना बढ़ जाता है कि लोग मॉर्निंग वॉक के लिए भी घर से निकलना बंद कर देते हैं। इसके साथ ही सड़कों पर और वायुमंडल में फैले प्रदूषण के जहर को देखा जा सकता है। इसका मुख्य कारण सर्दी के मौसम में किसानों द्वारा दिल्ली के पास के राज्यों पंजाब, हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में धान की पराली जलाना है। केजरीवाल तमाम तरह की कोशिशों के बावजूद दिल्ली में प्रदूषण को कंट्रोल नहीं कर पाए हैं।

ये भी पढ़ेंः स्मृति ईरानी भी इस मौके हो गईं भावुक!

प्रदूषित 30 शहरों में 22 भारत में
रिपोर्ट के मुताबिक विश्व के प्रदूषित 30 शहरों की सूची में 22 भारत में हैं। स्विस संगठन आईक्यू एयर द्वारा जारी वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट में ये जानकारी दी गई है। हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि दिल्ली की गुणवत्ता में पिछले कुछ सालों से लगातार सुधार हो रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक 2019 के मुकाबले 2020 में दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहतर हुई है। इसके बाद भी यह विश्व के प्रदूषित शहरों में 10वें नंबर पर है। लेकिन अगर राजधानी की बात करें तो दिल्ली विश्व में पहले नंबर पर है।

ये हैं प्रदूषित शहर
रिपोर्ट में प्रदूषण के मामले में भारतीय शहर प्रमुखता से नजर आ रहे हैं। गौर करनेवाली बात यह है कि विश्व के प्रदूषित 30 शहरों में से 22 भारत में हैं। दिल्ली के आलावा अन्य शहरों में गाजियाबाद, बुलंदशहर, बिसरख, जलालपुर, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, कानपुर, लखनऊ, मेरठ, आगरा और मुजफ्फरनगर शामिल हैं। ये सभी शहर उत्तर प्रदेश में स्थित हैं। इनके आलावा राजस्थान के भिवानी, हरियाणा के फरीदाबाद, जींद, हिंसार, फतेहाबाद, बंधवाड़ी, गुरुग्राम, यमुनानगर, रोहतक और धारुहेड़ा तथा बिहार का मुजफ्फरपुर शामिल है।

ये भी पढ़ेंः अवधी को आठवीं सूची में सम्मिलित करने की मांग, कहीं हिंदी टूट न जाए?

चीन का शिंजियांग सबसे प्रदूषित शहर
रिपोर्ट के मुताबिक विश्व का सबसे प्रदूषित शहर चीन में स्थित शिंजियांग है। उसके बाद सबसे प्रदूषित 10 शहरों में 9 भारत में हैं। विश्व के सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरो की सूची में गाजियाबाद दूसरे नंबर पर है। उसके बाद बुलंदशहर, बिसराव, जलालपुर, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, कानपुर, लखनऊ और भिवानी के नाम हैं। इन शहरों में 2.5 पीएम प्रदूषण है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here