तालिबान के लिए आसान नहीं आगे की राह ! अमेरिकी जनरल ने दी ऐसी चेतावनी

अफगानिस्तान में हक्कानी और तालिबान में भी मतभेद उभरने शुरू हो गए हैं। बताया यह भी जा रहा है कि इस कारण तालिबानी नेताओं को सरकार गठन में बार-बार असफलता मिल रही है।

अफगानिस्तान में तालिबान के लिए राह आसान नहीं दिख रही है। सरकार गठन की कवायद में लगे तालिबान को फिलहाल जहा पंजशीर घाटी के शेरों को शिकस्त देनी है, वहीं अफगानिस्तान में गृह युद्ध छिड़ने की भी आशंका जताई जा रही है। अमेरिकी जनरल मार्क मिले ने यह चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अफगान की जो स्थिति है, उससे वहां गृह युद्ध छिड़ने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।

अमेरिकी जनरल मिले ने जहां अफगानिस्तान में गृह युद्ध छिड़ने की चेतावनी दी, वहीं यह भी कहा कि इससे खतरनाक बात यह है कि वहां अलकायदा और आईएस जैसे संगठनों को फिर से उभरने का अवसर मिलेगा।

आसान जीत लेकिन आगे की राह मुश्किल
बता दें कि तालिबान ने अफगान सरकार की सेना को आसानी से हरा और 15 अगस्त को अपनी जीत का एलान कर दिया। वहां के तीन लाख सेना के अधिकारियों और जवानों एक महीने से भी कम समय में भी हार स्वीकार कर ली और तालिबान ने पंजशीर को छोड़कर काबुल तथा पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया।

पंजशीर में जंग जारी है
अफगानिस्तान के पंजशीर के शेर तालिबानी लड़ाकों को युद्ध में ढेर कर रहे हैं और वहां के नेता अहमद मसूद तथा पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने तालिबानियों से अंतिम सांस तक लड़ने की घोषणा की है। उससे यह पता चलता है कि तालिबान के लिए पंजशीर पर जीत हासिल करना आसान नहीं होगा।

ये भी पढ़ेंः पंजशीर के शेरों के सामने पस्त तालिबान! 700 लड़ाके ढेर,600 कैद

हक्कानी और तालिबान में भी मतभेद
इसके साथ ही यह भी जानकारी मिली है कि हक्कानी और तालिबान में भी मतभेद उभरने शुरू हो गए हैं। बताया यह भी जा रहा है कि इस कारण तालिबानी नेताओं को सरकार गठन में बार-बार असफलता मिल रही है। अब उन्होंने अगले सप्ताह सरकार गठन करने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here