खतरे में कर्नाटक के सीएम बोम्मई की कुर्सी? इस बात से मिले संकेत

पिछले कुछ दिनों से बसवराज बोम्मई को सीएम पद से हटाने की चर्चा चल रही है। उनके कार्यकाल में स्थानीय निकाय चुनावों में पार्टी का खराब प्रदर्शन इसके लिए महत्वपूर्ण कारण माना जा रहा है।

राजनीतिक गलियारों में इस बात की काफी चर्चा तेज हो गई है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई की कुर्सी खतरे में है। 28 जुलाई 2021 को ही उन्हें बीएस येदियुरप्पा के हटाए जाने के बाद मुख्यमंत्री बनाया गया है।

अब पांच महीनों में ही एक बार फिर कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की चर्चा है। अपने निर्वाचन क्षेत्र शिग्गांव में बसवराज बोम्मई द्वारा दिए गए एक बयान के बाद इस बात की अटकलें तेज हो गई हैं।

‘मैं आपके लिए वही बसवराज हूं’
सीएम बोम्मई ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में कहा,”मैंने हमेशा कहा है कि शिग्गांव के बाहर, मैं गृह मंत्री और सिंचाई मंत्री हुआ करता था। लेकिन एक बार यहां आने के बाद मैं आप सभी के लिए केवल बसवराज हूं। आज भी मैं बाहर के लोगों के लिए मुख्यमंत्री हूं, लेकिन आपके बीच वही बसवराज हूं। क्योंकि बसवराज नाम स्थायी है, यह पद स्थायी नहीं है। ”

‘दुनिया में कुछ भी हमेशा के लिए नहीं रहता’
मुख्यमंत्री ने भावुक होते हुए रुंधे गले से कहा, “इस दुनिया में कुछ भी हमेशा के लिए नहीं रहता है। यह जीवन भी सदा नहीं रहेगा। हम नहीं जानते कि हम कब तक इस पर पर रहेंगे। यह पद, यह प्रतिष्ठा हमेशा के लिए नहीं रहती है। मैं इस तथ्य से अच्छी तरह अवगत हूं।”

ये माने जा रहे हैं कारण
पिछले कुछ दिनों से बसवराज बोम्मई को पद से हटाने की चर्चा चल रही है। उनके कार्यकाल के दौरान स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा का खराब प्रदर्शन, भ्रष्टाचार के आरोप, खुद को जनता का नेता साबित करने में नाकामी, लोगों से टूटे रिश्ते इसके कारण बताए जा रहे हैं। इस बीच, भाजपा ने ऐसी सभी संभावनाओं से इनकार किया है और कहा है कि बोम्मई अपना कार्यकाल पूरा करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here