खालिस्तानियों की ‘हमजोली’ से श्रीनगर में ‘लव जिहाद’… भारतीय सिखों के खिलाफ ऐसे हो रही बड़ी आतंकी साजिश

सिख युवतियों के अपहरण से कश्मीर में आक्रोश है। केंद्र सरकार द्वारा शांति प्रक्रिया के अनुरूप जम्मू कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करने की पहल के बाद ड्रोन हमले, सिख युवतियों के अपहरण की घटनाएं इसके पाकिस्तान प्रायोजित होने के पुख्ता प्रमाण देते हैं।

विदेशों में बैठे खालिस्तानी जिस पाकिस्तानी टुकड़े पर पलकर भारत के विरुद्ध ‘के-2’ का नारा लगा रहे हैं, उस नारे की हवा कश्मीर में ही निकल गई है। यहां पर श्रीनगर में दो सिख युवतियों का अपहरण कर लिया गया और दोनों का निकाह बड़ी उम्र के मुसलमानों से करा दिया गया।

भारत के विरुद्ध षड्यंत्र रचनेवाले खालिस्तानी आतंकी पाकिस्तान की छांव में फल-फूल रहे हैं। वे सिखों के जनमत संग्रह की बात करते हैं, सिखों के विरुद्ध अन्याय की बांक देते हैं, परंतु उनके ये दावे कितने खोखले हैं और इसका भांडा श्रीनगर में फूट गया है। जहां सिख युवतियों का आपहरण कर लिया गया और उनका धर्मांतरण करवाकर निकाहनामा मुस्लिम बुड्ढों से करा दिया गया।

ये भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर में शांति बहाली होते देख हताश हुए आतंकी! अब पुलवामा में किया ऐसा

सिख समाज का विरोध
सिख समाज के लोगों ने युवतियों के दिनदहाड़े अपहरण से आक्रोशित होकर श्रीनगर में विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद राज्यपाल मनोज सिन्हा को एक ज्ञापन भी दिया गया। इस बीच एक युवती रविवार देर रात लौट आई परंतु दूसरी युवती मुस्लिम परिवार के कब्जे में है। सिख समाज के लोगों ने पुलिस पर भी पक्षपात का आरोप लगाया है। उन्होंने मुस्लिम आरोपियों की सहायता करने का आरोप लगाया है।

इस बीच सिखों की धार्मिक संस्थान नियंत्रक संस्था के हिस्से ‘दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी’ के मनजिंदर सिंह सिरसा ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात की है, गृह मंत्री की ओर से इस प्रकरण में उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है।

‘के-2’ की हवा निकली
दिल्ली की सीमा पर बैठे आंदोलकारी किसान यूनियन के लोगों में सबसे अधिक हिंदू सिख हैं। नेताओं की भ्रमित दिशा में बहकर आम आंदोलनकारी भी हिंदू सिख और इस्लामी एकता का पाठ पढ़ने लगा था। हालांकि, सूत्रों के अनुसार इस विचार के प्रसार में विदेशों में बैठे खालिस्तानी काम कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें – भारत के विरुद्ध ‘आतंकवाद’ और ‘आतंकी मैगजीन’… जानें ‘किसान’ से ‘जवान’ तक कैसे हैं सभी निशाने पर

यह खालिस्तानियों के ‘के-2’ षड्यंत्र का हिस्सा है। जिसमें ‘के-2’ यानी खालिस्तान और कश्मीर, जिसकी हवा कश्मीर में ही निकल गई, जब दो सिख युवतियों को कश्मीर से दिनदहाड़े अपहृत कर लिया गया उनका धर्मांतरण कराया गया और फिर उनका निकाह दो उनसे बड़ी उम्र के मुसलमानों से करा दिया गया।

हिंदू समाज विरोध में
इस घटना के विरोध में पूरा हिंदू समाज उतरा हुआ है। इसमें से कई ऐसे संगठन हैं जिन्होंने केंद्र सरकार पर कश्मीर की इस्लामी पार्टियों को अधिक सम्मान देने पर विरोध किया है।

इसमें से एक ट्वीट प्रोफेसर हरि ओम का है जिसमें उनका आरोप है कि चार सिख युवतियों का अपहरण हुआ है। जबकि आधिकारिक पुष्टि अभी तक मैत्र दो के अपहरण, धर्मांतरण और निकाह की आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here