कांग्रेस के इन नेताओं को पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी पड़ गई भारी, अनुशासन समिति ने कर दी यह सिफारिश

कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य एके एंटनी की अध्यक्षता वाली अनुशासन समिति ने 26 अप्रैल को दोनों के बारे में विचार किया।

कांग्रेस की अनुशासन समिति ने 26 अप्रैल को चर्चा कर पंजाब के पूर्व पार्टी प्रभारी सुनील जाखड़ और केरल से पार्टी नेता केवी थॉमस के खिलाफ कार्रवाई संबंधित अपनी सिफारिशें पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दी हैं।

 दो साल के लिए निलंबित करने की सिफारिश
कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पार्टी की अनुशासन समिति ने दोनों नेताओं को पार्टी से दो साल के लिए निलंबित करने की सिफारिश की है। हालांकि इस संबंध में अंतिम निर्णय पार्टी आलाकमान ही लेगी।

थॉमस राज्यसभा न भेजे जाने से नाराज
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस की पंजाब चुनावों में हार के बाद जाखड़ ने चन्नी को एक साक्षात्कार में भ्रष्टाचारी बताया था। उधर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री केवी थॉमस पार्टी के निर्देश के बावजूद राज्य में माकपा की बैठक में शामिल हुए थे । थॉमस राज्यसभा न भेजे जाने से पार्टी से नाराज हैं और सुनील जाखड़ पंजाब के मुख्यमंत्री पद के लिए उनकी उम्मीदवारी को अनदेखा किए जाने से नाराज हैं।

ये भी पढ़ें – रक्षा क्षेत्र में भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश, पहले- दूसरे नंबर पर हैं ये देश

सूत्रों के मुताबिक केवी थॉमस को सख्त चेतावनी देने और साथ ही उन्हें पार्टी की विभिन्न समितियों से हटाने की सिफारिश की गई है ।

अनुशासन समिति की बैठक के बाद पार्टी नेता और समिति के सदस्य तारिक अनवर ने बताया कि अनुशासन समिति ने मेघालय, पंजाब और केरल से प्राप्त शिकायतों पर चर्चा की। समिति ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया है, जिसे अंतिम स्वीकृति के लिए पार्टी अध्यक्ष के पास भेजा गया है।

कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य एके एंटनी की अध्यक्षता वाली अनुशासन समिति ने 26 अप्रैल को दोनों के बारे में विचार किया। इससे पहले अपनी बैठक में अनुशासन समिति ने 11 अप्रैल को पंजाब के पूर्व पार्टी प्रभारी सुनील जाखड़ और केरल से पार्टी नेता केवी थॉमस को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here