गहलोत बनेंगे राजस्थान के कैप्टन अमरिंदर सिंह? इस बात से मिले संकेत

गुजरात चुनाव के बाद राजस्थान में परिवर्तन आ सकता है। इसके संकेत अशोक गहलोत ने दिए हैं।

राजस्थान में एक बार फिर कांग्रेस में अंदरुनी कलह बढ़ने के संकेत मिले हैं। प्रदेश में विधायकों की बगावत पर माफी मांगने के लगभग एक महीने बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बगावत के मूड में दिख रहे हैं। 24 नवंबर को उन्होंने एक साक्षात्कार में सचिन पायलट को कई बार गद्दार कहकर संबोधित किया। इसके साथ ही उन्होंने अपने पास 102 विधायकों के होने का भी दावा किया। उन्होंने दावा किया कि सचिन पायलट के पास 10 विधायक भी नहीं हैं। गहलोत ने यहां तक कह दिया कि सचिन पायलट कभी भी राजस्थान के मुख्यमंत्री नहीं बन पाएंगे।

पार्टी के अध्यक्ष पद की दौड़ से हटने के एक महीना बाद अशोक गहलोत के अचानक इस तरह के बयान को लेकर राजनीति में चर्चा गरम हो गई है। जानकार गहलोत के इस संकेत को कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी मान रहे हैं।

बता दें कि सचिन पायलट और अशोक गहलोत के करीबी प्रमोद कृष्णम ने दो दिन पहले ही राजस्थान में बदलाव की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि प्रदेश में जल्दी ही बदलाव होगा। इसके साथ ही अजय माकन ने पत्र लिखकर राजस्थान के प्रभारी का पद छोड़ने की बात कही थी। उनका इशारा अशोक गहलोत की ओर था, जिनके समर्थक विधायक बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

गुजरात चुनाव के बाद बगवात संभव
जानकारों का मानना है कि गुजरात चुनाव के बाद राजस्थान में परिवर्तन आ सकता है। समझा जा रहा है कि इस कारण गहलोत को लेकर बगावत की बात कही जा रही है। उन्हें बगावत के मूड में बताया जा रहा है।

गहलोत को सता रहा है ये डर
हालांकि गहलोत पंजाब में हुए विधानसभा चुनाव में कैप्टन अमरिंदर सिंह का हश्र देख चुके हैं। वे अपना हाल भी उनकी तरह होने से डर रहे हैं। कैप्टन को काफी लंबी खींचतान के बाद अंत में मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया था और वे कहीं के न रहे। विधानसभा चुनाव में उनकी करारी हार हुई। अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष पद पहले ही ठुकरा चुके हैं। अगर सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री बन जाते हैं, तो गहलोत के पास कोई भी पद नहीं रह जाएगा और उनकी हैसियत खत्म हो जाएगी। इस कारण उनके तेवर गरम हो गए हैं और वे 102 विधायकों के समर्थन होने का दावा कर एक तरह से पार्टी हाईकमान को धमकी दे रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here