वीर सावरकर के बारे में बोलने की तुम्हारी हैसियत क्या है? राहुल गांधी पर जमकर बरसे राज ठाकरे  

वीर सावरकर ने जो भी किया वह उन्होंने 'रणनीति' के तहत किया था। 'कृष्णनीति' भी कहती है, 'सर सलामत तो पगड़ी पचास'।

वीर सावरकर पर राहुल गांधी की टिप्पणी के बाद महाराष्ट्र में सियासत और गरमा गई है। अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने राहुल गांधी पर हमला बोला है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने 27 नवंबर को एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि क्या राहुल गांधी की सावरकर के बारे में बुरा बोलने की हैसियत है, जिन्हें सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई थी? जिन्हें अंग्रेजों द्वारा प्रताड़ित किया गया, उस स्वातंत्र्यवीर के बारे में राहुल गांधी बोलता है तो वह बिल्कुल गधा है। मनसे प्रमुख ने कहा कि जेल से बाहर आने की ‘रणनीति’ नाम की कोई चीज होती है। इसे समर्पण या माफी कैसे कहा जा सकता है?

ये भी पढ़ें-अगर आप प्रभु रामचंद्र को राष्ट्रपिता नहीं मानते तो गांधी को क्यों? एबीपी के कार्यक्रम में रणजीत सावरकर ने दागा सवाल

वह उनकी रणनीति का हिस्सा था
राज ठाकरे ने कहा कि वीर सावरकर ने जो भी किया वह उन्होंने ‘रणनीति’ के तहत किया था। ‘कृष्णनीति’ भी कहती है, ‘सर सलामत तो पगड़ी पचास’। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शिवाजी महाराज ने भी अपने किले मिर्जा राजे को दे दिए थे, लेकिन वो गिफ्ट नहीं थे, वह भी रणनीति का एक हिस्सा थे। राज ठाकरे ने कहा कि इतिहास के नेताओं और दिग्गजों पर लड़ने का कोई मतलब नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here