विवादों की नव-ज्योत… पंजाब कांग्रेस में कबाहट, सिद्धू पर लगा बड़ा आरोप

पंजाब में कांग्रेस का आंतरिक विवाद समाप्त ही नहीं हो रहा है। नवजोतसिंह सिद्धू एक ओर सरकार के साथ दिखते हैं तो अगले क्षण कुछ ऐसा बोल जाते हैं कि, पूरी राजनीति ही उससे घूम जाती है। इससे कांग्रेस पार्टी और राज्य सरकार में ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है।

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोतसिंह सिद्धू के आरोपों का पूर्व एडवोकेट जनरल एपीएस देओल ने उसी भाषा में उत्तर दिया है। उन्होंने सिद्धू पर सरकार की कार्यवाही में बाधा डालने का आरोप लगाया है। राज्य में परिस्थिति ये है कि एक ओर कांग्रेस हाई कमान सबकुछ शांत कराता है तो दूसरी ओर सिद्धू कुछ न कुछ ऐसा बोल जाते हैं कि विवादों की नव-ज्योत सुलगने लगती है।

सिद्धू ने शुक्रवार को कहा था कि, वे पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद का कार्य तभी संभालेंगे, जब राज्य में नए एडवोकेट जनरल की नियुक्ति होगी। सिद्धू को राज्य में घटित दो प्रकरणों में अधिवक्ता नियुक्त किये जाने को लेकर आपत्तियां थीं। ये प्रकरण वर्ष 2015 के धार्मिक अवमान और पुलिस के गोली चलाने से संबंधित है।

ये भी पढ़ें – क्रूज ड्रग्स प्रकरण: तो झूठे हैं ‘नवाब’! ‘राष्ट्रवादी’ के नेताओं पर ‘भारतीय’ के बड़े आरोप

इस पर पलटवार करते हुए पूर्व एडवोकेट जनरल एपीएस देओल ने कहा कि, सिद्धू सरकार के कार्य में बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं, यह सब वे राजनीतिक लाभ के लिए कर रहे हैं। निहित स्वार्थ के लिए आगामी चुनावों को ध्यान में रखकर कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने का कार्य चल रहा है। अपने निजी हितों के लिए पंजाब के एडवोकेट जनरल के संवैधानिक कार्यालय का राजनीतिकरण किया जा रहा है। सिद्धू के बार-बार के बयानों से ड्रग्स प्रकरण और धार्मिक पवित्रता को क्षति पहुंचाने के प्रकरण में सरकार की अच्छी कोशिश प्रभावित हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here