मौतुवा मंदिर में पूजा, ‘बॉर मां’ का स्मरण! जानें पीएम के दौरे की खास बातें

बांग्लादेश अपनी स्वतंत्रता का स्वर्णोत्सव मना रहा है। इस अवसर के लिए प्रमुख अतिथि के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर वहां पहुंचे हुए हैं। अपने प्रवास के दूसरे दिन पीएम मोदी ने दर्शन व पूजा अर्चना की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बांग्लादेश दौरे के दूसरे दिन ओराकांडी मंदिर पहुंचे। ओराकांडी मौतुवा समुदाय के संस्थापक हरिश्चंद्र ठाकुर का जन्मस्थान है। यहां पीएम ने पूजा अर्चना की। मौतुवा समुदाय मूलरूप से बांग्लादेश से है लेकिन पूर्वी पाकिस्तान के निर्माण के बाद वहां हिंदुओं के साथ हुए अत्याचार के बाद इस समाज के लोग पश्चिम बंगाल में पलायन करके चले आए।

बंगाल में मौतुवा मतदाताओं का महत्व
पश्चिम बंगाल में मौतुवा समुदाय के मतदाता लगभग एक करोड़ अस्सी लाख हैं। जबकि बंगाल के लगभग तीन करोड़ मतादातओं का साथ इस समुदाय के पास है। इस समुदाय की कुल जनसंख्या में हिस्सेदारी 17 प्रतिशत है। ये वर्षों से भारत में रहते हैं। इन्हें मतदान का अधिकार तो मिल गया लेकिन इन्हें अभी भारतीय नागरिकता नहीं मिल पाई है।

ये भी पढ़ें – बंगाल चुनाव और बांग्लादेश यात्रा, क्या साधने में लगे हैं पीएम?

प्रधानमंत्री के संबोधन की प्रमुख बातें…

  • भारत आज ‘सबका साथ, सबका विकास, और सबका विश्वास’ के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहा है, और बांग्लादेश इसमें ‘शोहो जात्री’ है।
  • दोनों ही देश दुनिया में अस्थिरता, आतंक और अशांति की जगह स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं। यही मूल्य, यही शिक्षा श्री श्री हॉरिचान्द देव जी ने हमें दी थी
  • मौतुवा शॉम्प्रोदाय के हमारे भाई-बहन श्री श्री हॉरिचान्द ठाकुर जी की जन्मजयंति के पुण्य अवसर पर हर साल ‘बारोनी श्नान उत्शब’ मनाते हैं।
  • भारत से बड़ी संख्या में श्रद्धालु इस उत्सव में शामिल होने के लिए, ओराकान्दी आते हैं
  • भारत के मेरे भाई-बहनों के लिए ये तीर्थ यात्रा और आसान बने, इसके लिए भारत सरकार की तरफ से प्रयास और बढ़ाए जाएंगे।
  • ठाकूरनगर में मौतुवा शॉम्प्रोदाय के गौरवशाली इतिहास को प्रतिबिंबित करते भव्य आयोजनों और विभिन्न कार्यों के लिए भी हम संकल्पबद्ध हैं

ये भी पढ़ें – पीएम मोदी का बांग्लादेश दौराः एक तीर से दो निशान!

  • श्री श्री हॉरिचान्द देव जी की शिक्षाओं को जन-जन तक पहुंचाने में, दलित-पीड़ित समाज को एक करने में बहुत बड़ी भूमिका उनके उत्तराधिकारी श्री श्री गुरुचॉन्द ठाकुर जी की भी है। श्री श्री गुरुचॉन्द जी ने हमें ‘भक्ति, क्रिया और ज्ञान’ का सूत्र दिया था
  • मुझे याद है, पश्चिम बंगाल में ठाकुरनगर में जब मैं गया था, तो वहाँ मेरे मौतुवा भाइयों-बहनों ने मुझे परिवार के सदस्य की तरह प्यार दिया था। विशेष तौर पर ‘बॉरो-माँ’ का अपनत्व, माँ की तरह उनका आशीर्वाद, मेरे जीवन के अनमोल पल रहे हैं
  • किसने सोचा था कि भारत का प्रधानमंत्री कभी ओराकान्दी आएगा।
  • मैं आज वैसा ही महसूस कर रहा हूं, जो भारत में रहने वाले ‘मॉतुवा शॉम्प्रोदाई’ के मेरे हजारों-लाखों भाई-बहन ओराकान्दी आकर महसूस करते हैं
  • आज श्री श्री हॉरिचान्द ठाकुर जी की कृपा से मुझे ओराकान्डी ठाकुरबाड़ी की इस पुण्यभूमि को प्रणाम करने का सौभाग्य मिला है।
  • मैं श्री श्री हॉरिचान्द ठाकुर जी, श्री श्री गुरुचान्द ठाकुर जी के चरणों में शीश झुकाकर नमन करता हूँ
  • आप सभी को बांग्लादेश की आज़ादी के 50 साल पूरे होने पर ढेरों बधाई, हार्दिक शुभकामनाएँ
  • मैं बांग्लादेश के राष्ट्रीय पर्व पर भारत के आपके 130 करोड़ भाइयों-बहनों की तरफ से आपके लिए प्रेम और शुभकामनाएं लाया हूँ।

बांग्लादेश के काली मंदिर के लिए अनुदान
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जेशोरेश्वरी काली मंदिर में पूजा अर्चना की है। वहां उन्होंने मंदिर के लिए हॉल और भूकंप निरोधक भवन निर्माण के लिए अनुदान की घोषणा की है। जेशोरेश्वरी मंदिर देवी के 51 शक्ति पीठों में से एक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here