उसके लिए रुका पीएम का भाषण और दौड़ पड़ी टीम! जानिये कौन है वो?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच राज्यों में होनेवाले चुनावों के लिए लगातार प्रचार कर रहे हैं। इसमें वे लगभग 23 रैलियां कर चुके हैं। उत्तर से लेकर दक्षिण तक सभी रैलियों में जनता की बड़ी उपस्थिति उनके व्यक्तित्व की परिचायक है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के तामुलपुर में मंच से लोगों का अभिवादन कर संबोधन की शुरुआत कर चुके थे। वे असम के लिए अपनी सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों का लेखाजोख प्रस्तुत कर रहे थे। इसे लगभग नौ मिनट बीते थे कि प्रधानमंत्री की दृष्टि दूर बैठकर भाषण सुन रहे एक व्यक्ति पर पड़ गई और पीएम ने अपना भाषण वहीं रोक दिया।

बता दें कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली हमेशा कुछ न कुछ नई दिशा की सूचक होती है। वे पिछले चार दिनों में 4 राज्य में 11 रैली और 5,500 किलोमीटर की दूरी तय कर चुके हैं। इन सभी रैलियों में पीएम का संबोधन प्रत्येक राज्य, रैली स्थल की विधान सभा की आवश्यकताओं के दृष्टिगत रहता है। इसमें उनकी कुशाग्र दृष्टि कुछ न कुछ ऐसा देख लेती है कि लोग उनमें अपनापन पा जाते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ तामुलपुर की रैली में जहां प्रधानमंत्री ने संबोधन को अचानक बीच में रोक दिया।

ये भी पढ़ें – हिंदुओं की चिंता में अमेरिकी ‘तुलसी’ ने उठा लिया ये कदम! पढ़ें खबर

प्रधानमंत्री ने अपने साथ आए स्वास्थ्य कर्मियों को दूर बैठे एक व्यक्ति के पास जाने को कहा। इस व्यक्ति का स्वास्थ्य अचानक बिगड़ गया था। तेज धूप के कारण उसे डिहाइड्रेशन की तकलीफ हो गई थी। प्रधानमंत्री के मंच पर इसके अलावा भी कई बार ऐसा कुछ हो जाता है जो सामान्य नेताओं के लिए आश्चर्य से कम नहीं होता।

ये भी पढ़ें – हरिद्वार कुंभ: यहां भिक्षुक कराते हैं पुलिसवालों को भोजन!

पीएम ने छुए कार्यकर्ता के पैर
यह घटना 24 मार्च की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के कांथी में मंच पर बैठे थे। इस बीच एक भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता प्रधानमंत्री की ओर तेजी से बढ़ा और उनके पैर छूने के लिए नीचे झुक गया। इसे देखते ही प्रधानमंत्री तुरंत अपनी कुर्सी से उठे और कार्यकर्ता को उठाते हुए उसके पैर छुए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here