राष्ट्रपति के हाथों परिचारिकाओं का सम्मान, महाराष्ट्र से ये हैं चार नाम

स्वास्थ्य सेवा में परिचारिकाओं की सेवा का महत्वपूर्ण स्थान है। इसके सम्मान स्वरूप पुरस्कार दिये जाते हैं।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सोमवार को राष्ट्रपति भवन में 51 नर्सिंग पेशेवरों को वर्ष 2021 के लिए ‘राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार’ प्रदान किए।

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि सभी नर्सों (परिचारिकाओं) को उनके अनुकरणीय कार्य और नि:स्वार्थ सेवा के लिए राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2021 प्रदान करते हुए प्रसन्नता हो रही है। कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सभी स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के नि:स्वार्थ योगदान के साथ-साथ राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण कार्यक्रम को गति देने में उनकी कड़ी मेहनत का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि महामारी ने दुनिया को हमारी नर्सों की ओवरटाइम काम करने, परिवारों से दूर रहने और अत्यधिक मांग वाली परिस्थितियों में सेवा करने की दुर्जेय भावना दिखाई है।

राष्ट्रपति ने कहा कि स्वास्थ्य सेवा को मजबूत करने में नर्सों का योगदान अनुकरणीय रहा है। ये पुरस्कार विजेता देश में युवा नर्सों और दाइयों को साथी नागरिकों की बेहतरी के लिए प्रतिबद्धता और करुणा के साथ काम करने के लिए प्रेरित करेंगे। पूरी नर्सिंग बिरादरी को मेरी शुभकामनाएं।

महाराष्ट्र से चार नाम

  • मनीषा भाऊसो जाधव
  • अलका विकास कोरेकर
  • अंजलि अनंत पटवर्धन

ये भी पढ़ें – अब्दुल्ला आजम की विधानसभा सदस्यता होगी रद्द? सर्वोच्च न्यायालय ने दिया जोर का झटका

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कारों की स्थापना वर्ष 1973 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा समाज में नर्सों और नर्सिंग पेशेवरों द्वारा प्रदान की गई मेधावी सेवाओं के लिए मान्यता के रूप में की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here