ट्रंप ने वाशिंगटन डीसी में क्यों लगाई इमरजेंसी?

ह्वाइट हाउस के प्रेस सचिव कार्यालय ने जारी एक बयान में कहा है कि 59वें राष्ट्रपति के उद्घाटन कार्यक्रम के मद्देनजर 11 जनवरी से 24 जनवरी तक इमरजेंसी लागू की गई है।

अमेरिका की राजधानी में जारी तनाव के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के उद्घाटन के कार्यक्रम तक वाशिंगटन डीसी में इमरजेंसी को मंजूरी दे दी है। ट्रंप का यह फैसला ऐसे समय में आया है, जब उन पर महाभियोग की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ह्वाइट हाउस के प्रेस सचिव कार्यालय ने जारी एक बयान में कहा है कि 59वें राष्ट्रपति के उद्घाटन कार्यक्रम के मद्देनजर 11 जनवरी से 24 जनवरी तक इमरजेंसी लागू की गई है।

बता दें कि इससे पहले वाशिंगटन डीसी के मेयर म्यूरियल बोउसर ने 15 दिनों के लिए इमरजेंसी का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि बाइडन के उद्घाटन समारोह के दौरान वाशिंगटन में हिंसा की आशंका के मद्देनजर आपातकाल की घोषणा की गई है।

हिंसा की आशंंका
ह्वाइट हाउस को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि 6 जनवरी को कैपिटल में हुई हिंसा के बाद अंदेशा है कि यह हिंसा आगे भी जारी रह सकती है। उन्होने 24 जनवरी तक डीसी नेशनल गार्ड की मदद करने का अनुरोध किया था। इसके बाद ह्वाइट हाउस की ओर सेहोमलैंड सिक्योरिटी विभाग और संघीय आपातकाल प्रबंधन एजेंसी को राज्य तथा स्थानीय अधिकारियों के साथ संसाधनों का समन्वय करने के लिए अधिकृत किया गया है।

ये भी पढ़ेंः हिंदुस्थान पोस्ट की खबर पर मुहर… किसानों में खालिस्तानी भी!

इस्तीफे का दौर जारी
फिलहाल अमेरिका कैपिटल हिल हिंसा के बाद इस्तीफे का सिलसिला जारी है। होमलैंड सिक्योरिटी कार्यवाहक सचिव चाड वुल्फ ने पिछले हफ्ते हुई हिंसा के कुछ दिनों बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया। यूएस कैपिटल हमले के बाद और नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के 20 जनवरी को होनेवाले शपथग्रहण समारोह से पहले उनके इस्तीफे से सुरक्षा संबंधी चिंताएं बढ़ गई हैं।

ये भी देखें – पाकिस्तान ऐसे चल रहा खालिस्तानी चाल!

हिंसा के बाद इन्होंने दिया इस्तीफा
कैपिटल हिल में ट्रंप समर्थकों की हिंसा के तुरंत बाद अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मैट पोटिंगर, प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप की चीफ ऑफ स्टाफ स्टेफानी ग्रीशम , व्हाइट हाउस के उपसचिव सारा मैथ्यज ने इस्तीफा दे दिया था।
6 जनवरी को कैपिटल हिल में ट्रंप समर्थकों ने हमला कर दिया था और हिंसा की थी। इसमें कैपिटल पुलिस के एक अधिकारी तथा चार अन्य लोगों की मौत हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here