जम्मू कश्मीर में मार्च-अप्रैल में होगा चुनाव? राजनीतिक सरगर्मियों तेज

उधमपुर जिले में नए परिसीमन आयोग के अनुसार अब चार विधानसमा की सीटें बनाई गई हैं, जो पहले तीन थीं।

जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव मार्च-अप्रैल में होने की संभावना को देखते राजनीतिक सरगर्मियां तेज होती जा रही हैं।

उधमपुर जिले में नए परिसीमन आयोग के अनुसार अब चार विधानसमा की सीटें बनाई गई हैं, जो पहले तीन थीं। पहले उधमपुर, रामनगर व चिनैनी सुरक्षित सीट थी, जबकि अब उधमपुर ईस्ट व उधमपुर वेस्ट, चिनैनी तथा रामनगर सुरक्षित सीटें बनाई गई हैं। इस समय जिले में भाजपा का पलड़ा भारी दिखाई दे रहा है।

गत विधानसभा चुनावों में पार्टी ने तीन में से दो सीट जीती थीं तथा एक पर निर्दलीय उम्मीदवार विजयी हुए थे। जो भाजपा का टिकट न मिलने पर निर्दलीय रूप में चुनाव लड़े थे तथा जीत दर्ज की थी। पैंथर्स पार्टी के वरिष्ठ नेता बलवंत सिंह मनकोटिया पिछले दिनों भाजपा में शामल हुए हैं। इससे भाजपा का सारा गणित बिगड़ गया है, क्योंकि उधमपुर ईस्ट, ऊधमपुर वेस्ट व चिनैनी में यह चार नेता पवन गुप्ता, पवन खजूरिया, आर.एस पठानिया, बलवंत सिंह मनकोटिया प्रबल दावेदार हैं। इनमें से एक को टिकट नहीं मिलने की संभावना है। क्योंकि सीटें तीन दावेदार चार हैं। इन चार में से पवन गुप्ता व बलवंत सिंह मनकोटिया उधमपुर ईस्ट जिसमें उधमपुर नगर सम्मिलित है के दावेदार हैं। जबकि पवन खजूरिया व आरएस पठानिया उधमपुर वेस्ट के दावेदार हैं। वहीं चिनैनी का कोई दावेदार नहीं है। कहा जाता है कि आरएस पठानिया या बलवंत सिंह मनकोटिया में से कोई एक चिनैनी से चुनाव लड़ सकता है। इसलिए भाजपा के लिए भारी उलझन भरी स्थिति बनी हुई है।

आप पार्टी के प्रदेश प्रभारी एवं पूर्व मंत्री हर्ष देव सिंह पहले रामनगर से तीन बार विजयी हुए थे। अब रामनगर सुरक्षित सीट होने के कारण वह चिनैनी से चुनाव में उतरने की तैयारी कर रहे हैं, क्योंकि रामनगर विधानसभा का कुछ क्षेत्र चिनैनी में शामिल हुआ है। इसलिए वे यहां की तैयारी कर रहे हैं। शेष दलों की स्थिति अभी अस्पष्ट बनी हुई है। अभी तक कोई चेहरा सामने नहीं आया, जो किसी विधानसभा क्षेत्र में सक्रिय हो, सब चुनाव घोषणा के उपरांत ही सक्रिय होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here