केरल में पीएफआई ने स्कूली बच्चों में बांटा ऐसा बैज कि हो गया बवाल! भाजपा ने दागा ऐसा सवाल

केरल में पीएफआई ने बाबरी मस्जिद की बरसी पर कथित रुप से बच्चों में नफरत फैलाने का कृत्य किया है।

मुस्लिम कट्टरपंथी लव जिहाद, लव नारकोटिक्स और धर्मांतरण जैसे हथकंडे अपनाकर जहां देश में नफरत फैलाने का षड्यंत्र रच रहे हैं, वहीं वे बच्चों में भी मजहब का जहर घोलने से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी तरह की एक घटना केरल में सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है। प्रदेश के पठानमथिट्टा जिले में बाबरी मस्जिद की बरसी पर यानी छह दिसंबर को स्कूल जाने वाले बच्चों को आई एम बाबरी बैज बांटे जाने का मामला प्रकाश में आया है। यह बैज पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया द्वारा बांटा गया।

पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए पीएफआई के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य पीके कृष्णदास ने पठानमथिट्ठा जिले के कट्टंगल के सेंट जॉर्ज स्कूल में हुई इस घटना को लेकर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग यानी एनसीपीसीआर में शिकायत दर्ज कराई है। कट्टगल पंचायत में सीपीआई-एम का शासन है, जिसे पीएफआई की राजनैतिक शाखा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया का समर्थन प्राप्त है।

पुलिस में मामला दर्ज
जिला पुलिस ने इस बारे में बताया है कि भाजपा नेता सुरेश के पिल्लई की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया है। इस मामले में एसडीपीआई के कार्यकर्ता मुनीर नजर का नाम आया है। पुलिस का कहना है कि जांच के दौरान उसे गिरफ्तार किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें – जब वी मेट: रूस भारत के शीर्ष नेतृत्व की मुलाकात हुई, ये बात हुई

भाजपा का आरोप
भाजपा नेता कृष्णदास ने कहा है कि स्कूल के अधिकांश छात्र हिंदू और ईसाई समुदाय के हैं। बैज का वितरण बच्चों में नफरत फैलाने के लिए किया गया है। आयोग को इस मामले मे कार्रवाई करनी चाहिए। इसके साथ ही मामले की केंद्रीय गृह मंत्रालय में भी शिकायत की गई है।

सिरिया बनता जा रहा है केरल?
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने इस कृत्य के लिए पीएफआई को कड़ी फटकार लगाई है। उन्होंने दावा किया है कि केरल सरकार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी। उन्होंने यह भी सवाल किया कि क्या केरल सीरिया बनता जा रहा है? उन्होंने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन पर कट्टरपंथियों के समर्थन का आरोप लगाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here