गुजरातः प्रधानमंत्री ने किया बनास डेयरी संयंत्र का लोकार्पण, सहकारिता पर जोर देते हुए कही ये बात

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बनास डेयरी सहयोग के क्षेत्र के साथ विकास की नई यात्रा है। दूध और आलू के बीच कोई संबंध नहीं है लेकिन बनास डेयरी दूध उत्पादन के साथ आलू उत्पादन भी करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनासकांठा को बड़ा तोहफा देते हुए दियोदर में बनास डेरी परियोजना का लोकार्पण किया। इस अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि कम बारिश वाले बनासकांठा जिले में कांकराज गाय, मेहसानी भैंस और आलू ने किसानों की किस्मत बदल दी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बनास डेयरी की सहकारी गतिविधियां आत्मनिर्भर भारत की मिसाल हैं। सहयोग के क्षेत्र के साथ विकास की नई यात्रा है। दूध और आलू के बीच कोई मुकाबला नहीं है लेकिन बनास डेयरी ने दूध उत्पादन के साथ आलू उत्पादन संयंत्र का उद्घाटन किया। देखा जा सकता है कि यह एक ऐसा मॉडल है जो किसानों की किस्मत बदल सकता है।

खास बातें-

-प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बनास डेयरी आलू के अच्छे बीज भी देता है। आत्मनिर्भर भारत के लिए सरकार के अभियान में आपके संगठन का बड़ा योगदान है। बायोगैस और गोबर गैस संयंत्र का उद्घाटन किया जा रहा है। गोबर गैस एक साथ कई लक्ष्य हासिल कर रही है। गोबर से बायो सीएनजी बनाई जा रही है।

-प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गांधीनगर में तैयार की गई विद्या समीक्षा 500 करोड़ डेटा का अध्ययन कर रही है। यह केंद्र इतना मजबूत है कि मैं देश के शिक्षा विभाग और भारत सरकार के सभी अधिकारियों से इस केंद्र का दौरा करने और इसे देश के अन्य स्तरों पर लागू करने का आग्रह करता हूं।

-600 करोड़ से अधिक की सहायता से निर्मित बनास डेयरी कॉम्प्लेक्स और आलू प्रसंस्करण और उत्पाद इकाई का उद्घाटन, ग्रीनफील्ड प्रोजेक्ट यानी डेयरी कॉम्प्लेक्स से प्रतिदिन 30 लाख लीटर दूध, 80 टन मक्खन, एक लाख लीटर आइसक्रीम, 20 टन गाढ़ा दूध और 6 टन चॉकलेट का उत्पादन होगा। आलू इकाई फ्रेंच फ्राइज़, आलू के चिप्स, आलू के चिप्स और पैटी का उत्पादन करेगी।

-बनासकांठा में राज्य में सबसे अधिक आलू की खेती और उत्पादन होता है, इकाई का सीधा लाभ किसानों को होगा। इसके अलावा दामा (डीसा) में एक जैविक उर्वरक और बायोगैस संयंत्र का उद्घाटन किया। इसने खिमाना, रतनपुर, भीलडी (राधनपुर) और थावर (धानेरा) में 100 टन के गोबर गैस संयंत्र की आधारशिला भी रखी है।

-बनास डेयरी के चेयरमैन शंकर चौधरी ने कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बनासकांठा जिले का मान बढ़ाया है और लोगों को नया विजन दिया है। कृषि में उन्होंने एक नई दृष्टिकोण दी, जिससे उत्पादन में वृद्धि हुई। वहीं उनके मधुमक्खी पालन के विचार से यहां के लोग खुश हैं।

-बनास डेरी परियोजना लोकार्पण समारोह में गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा की ‘उत्तर गुजरात को बेहतरीन (उत्तम) प्रधानमंत्री ने बनाया है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने कहा कि पानी की कमी के कारण खेती और व्यवसाय दुर्लभ थे लेकिन श्वेत क्रांति से आपको जो ताकत मिली है, उसके लिए बधाई।

-इसके अलावा बनास डेयरी की विभिन्न परियोजनाओं का ई-समर्पण और ई-खातमुहूर्त भी आयोजन स्थल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। ई-समर्पण में बनास डेयरी पनीर और व्हे पाउडर प्लांट विस्तार पालनपुर, बनास गोबर गैस प्लांट और बायो सीएनजी शामिल हैं। स्टेशन दामा (डीसा) और ई-खातमुहूर्त में 4 नए कचरा गैस संयंत्र खिमाना, रतनपुरा (भिलड़ी), राधनपुर और थावर (धानेरा) शामिल हैं।

-दियोदर में बनास डेयरी का निर्माण जून 2020 में शुरू हुआ। केवल 18 महीने और कोरोना काल की प्रतिकूल परिस्थितियों में एक अत्याधुनिक डेयरी प्लांट बनाया गया है। जिसमें विश्व के 7 विभिन्न देशों की मशीनरी स्थापित की गई है।

-प्लांट की दूध प्रसंस्करण क्षमता 30 लाख लीटर प्रतिदिन है, जिसे बढ़ाकर 50 लाख लीटर प्रतिदिन किया जा सकता है। संयंत्र की क्षमता 100 टन प्रतिदिन मक्खन उत्पादन, 1 लाख लीटर प्रतिदिन आईसक्रीम संयंत्र, 20 टन प्रतिदिन खोवा और 6 टन प्रतिदिन चॉकलेट नामांकन संयंत्र की है। डेयरी प्लांट के बगल के परिसर में प्रतिदिन 48 टन आलू को संसाधित करने की क्षमता है। बनास डेयरी कॉम्प्लेक्स में सहकारी क्षेत्र में पहली बार बनास कम्युनिटी एफएम रेडियो 90.4 स्टेशन स्थापित किया जा रहा है, जो सार्वजनिक शिक्षा और पशुपालन में बहुत उपयोगी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here