अब भाजपा-कांग्रेस की सियासत बढ़ाएगी राजस्थान का तापमान, एक-दूसरे को पछाड़ने की बनाएंगी रणनीति

अगले लगभग 15 दिन तक कांग्रेस-भाजपा के बड़े नेताओं का राजस्थान में आना-जाना लगा रहेगा।

राजस्थान का सियासी पारा आगामी कुछ दिनों के लिए देश की राजनीति का केंद्र बिंदु बनने जा रहा है। भाजपा और कांग्रेस इस माह प्रदेश में अपनी- अपनी पार्टी की बड़ी बैठकें करने जा रहे हैं। कांग्रेस अपनी पार्टी की दशा और दिशा सुधारने के लिए उदयपुर में 13 से 15 मई के बीच चिंतन शिविर आयोजित करेगी, वहीं 20-21 मई को भाजपा आगामी चुनाव की तैयारियों के साथ संगठन को मजबूत बनाने की रणनीति पर मंथन करने के लिए जयपुर में राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक करेगी।

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए तैयार होगी रणनीति
दोनों ही दल आने वाले दो साल के विधानसभा और लोकसभा चुनाव पर फोकस करने जा रहे हैं। अगले करीब 15 दिन तक कांग्रेस-भाजपा के बड़े नेताओं का राजस्थान में आना-जाना लगा रहेगा। दोनों ही दलों का गुजरात चुनावों पर विशेष फोकस है। माना जा रहा है कि कांग्रेस का जो चिंतन शिविर होगा, उसका गुजरात से सटे उदयपुर में होने का एक कारण यह भी है। शिविर के अलावा सोनिया गांधी और राहुल गांधी बेणेश्वर धाम में एक बड़ी सभा को संबोधित भी कर सकते हैं, वहीं गृह मंत्री अमित शाह का भी उदयपुर संभाग में ही एक बड़ी सभा करवाने का कार्यक्रम बन रहा है। पहले ऐसा माना जा रहा था कि 24-25 मई को शाह डूंगरपुर-बांसवाड़ा आ सकते हैं, लेकिन अभी तक इस तारीख को हरी झंडी नहीं मिली है।

 ये भी पढ़े – बीएसएफ के बीओपी पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री

जिलों में कार्यालयों का होगा भूमि पूजन 
सियासी पारे की शुरुआत 10 मई से हो गई। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा दो दिनों में श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ पहुंच गए हैं। 11 मई को हनुमानगढ़ में दस जिला कार्यालयों का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे और चार जिलों में कार्यालय बनाने के लिए भूमि पूजन होगा। इसके बाद 20-21 मई को भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की जयपुर में बैठक होने जा रही है। इसमें करीब 150 बड़े नेता और भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। पहले दिन राजनीति समीकरणों और संगठन को मजबूत करने पर चर्चा होगी। दूसरे दिन संगठन मंत्रियों की बैठकें चलेंगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी वर्चुअल इस बैठक से जुड़ सकते हैं।

 400 से अधिक प्रमुख नेता रहेंगे मौजूद
दूसरी तरफ कांग्रेस में 13 से 15 मई तक एआईसीसी का तीन दिवसीय चिंतन शिविर (नवसंकल्प शिविर) उदयपुर में होगा। इसमें कांग्रेस पार्टी की आगामी रणनीति बनाई जाएगी। सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सहित देशभर के 400 से अधिक प्रमुख नेता मौजूद होंगे। 16 मई को डूंगरपुर-बांसवाड़ा जिले के तीर्थ स्थल बेणेश्वरधाम में सोनिया व राहुल गांधी सभा कर सकते हैं। 21 मई को आजादी की गौरव यात्रा कोटपूतली पहुंचेगी। यहां बड़ी सभा होगी। इसमें राहुल गांधी आ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here