केंद्रीय जांच एजेंसियों से त्रस्त महाराष्ट्र सरकार! मुख्यमंत्री से मिले पवार, बनाई ऐसी रणनीति

महाराष्ट्र की महाविकास आघाड़ी में शामिल शिवसेना और राकांपा के नेता अनिल देशमुख, अनिल परब, एकनाथ खडसे, भावना गवली जैसे नेता वर्तमान में ईडी की जांच का सामना कर रहे हैं।

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री-नेता केंद्रीय जांच एजेंसियों का दिलेरी से सामना करने की बातें तो बहुत करते हैं, लेकिन सच्चाई यही है कि वे इस वजह से बेहद परेशान हैं। एक के बाद एक महाविकास आघाड़ी के मंत्री-नेता ईडी के जाल में फंसते नजर आ रहे हैं। इस कारण दूसरे नेता-मंत्री भी काफी डरे हुए हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि अब जांच एजेंसियां ​राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख और देश के दिग्गज नेता शरद पवार के घर में घुस गई हैं। इसके चलते पवार परिवार में कोहराम मचा हुआ है। वहीं जांच एजेंसियों की नजर मुख्यमंत्री ठाकरे पर भी लगी हुई है।

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार इससे बाहर आने का रास्ता निकालने के लिए सीएम उद्धव ठाकरे के सरकारी आवास वर्षा बंगले पर पहुंचे। बताया जा रहा है कि केंद्रीय जांच एजेंसियों की जांच को लेकर इनके बीच गहन चर्चा हुई।

शिवसेना-राकांपा में बेचैनी
महाविकास आघाड़ी में शामिल शिवसेना और राकांपा के नेता अनिल देशमुख, अनिल परब, एकनाथ खडसे, भावना गवली जैसे नेता-मंत्री वर्तमान में ईडी की जांच का सामना कर रहे हैं। इन पार्टियों के नेताओं का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी केंद्रीय जांच एजेंसी का इस्तेमाल महाविकास आघाड़ी सरकार को बदनाम करने के लिए कर रही है। उनके द्वारा शिवसेना और राकांपा के नेता और मंत्रियों को निशाना बनाया जा रहा है।

बनाई गई ऐसी रणनीति
ईडी की जांच को लेकर शिवसेना-राकांपा में कोहराम मचा हुआ है। इसलिए इस मुद्दे पर गंभीरता से चर्चा करने के लिए पवार-ठाकरे की बैठक होने की बात कही जा रही है। बैठक में बनाई गई रणनीति के अनुसार अब महाविकास आघाड़ी के घटक दल बिना किसी डर के इन एजेंसियों का सामना करेंगे। इनके बीच आधे घंटे तक चली चर्चा के बाद यह फैसला किया गया।

ये भी पढ़ेंः सीबीआई,सीवीसी के अधिकारियों को पीएम ने दी ये सलाह!

अजित पवार के खिलाफ शिकायत
इस बीच, भाजपा नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया जरंडेश्वर चीनी कारखाने की बिक्री और खरीद के खिलाफ सबूत पेश करने के लिए ईडी कार्यालय पहुंचे। इस दौरान सोमैया ने उप मुख्यमंत्री अजित पवार के खिलाफ ईडी और आयकर विभाग को कथित रुप से कई सबूत पेश किए। किरीट सोमैया जहां ईडी कार्यालय में थे, वहीं राकांपा के युवा कार्यकर्ता ईडी कार्यालय के बाहर उग्र प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान राकांपा युवा विंग के अध्यक्ष सूरज चव्हाण के नेतृत्व में 20- 25 कार्यकर्ताओं ने सोमैया के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में पुलिस ने उन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here