महाराष्ट्रः नाना पटोले के प्रदेश अध्यक्ष पद पर लटकी तलवार! जानिये, क्या है मामला

नाना पटोले कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद से पार्टी के अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ ही स्वयं को मुख्यमंत्री का चेहरा भी बता चुके हैं।

महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के बाद पूर्व विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले काफी आक्रामक हो गए हैं। वे विपक्ष के साथ ही महाविकास आघाड़ी सरकार में शामिल अपने सहयोगियों पर भी निशाना साधते रहते हैं। वे कई बार कह चुके हैं कि कांग्रेस महाराष्ट्र में अपने दम पर चुनाव लड़ेगी। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि उनके इस तरह के बयान को लेकर पार्टी के स्थानीय पार्टी नेता नाराज हैं और वे जल्द ही पटोले के खिलाफ पार्टी हाईकमान से शिकायत कर सकते हैं।

इसलिए नाना से नाराज हैं कांग्रेसी नेता
मिली जानकारी के अनुसार नाना पटोले से न केवल कांग्रेस विधायक नाराज हैं, बल्कि मंत्री भी नाराज हैं। उनका कहना है कि पटोले के बेतूके बयान से सरकार के साथ ही कांग्रेस की भी परेशानी बढ़ रही है। इस बारे में पटोले की शिकायत पार्टी हाईकमान से की जा सकती है। इस कारण पटोले का पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद खतरे में पड़ सकता है।

ये भी पढ़ेंः जिसे विश्व ने अपनाया, वो इस कांग्रेसी को नहीं भाया… जानें राजनीति का अनुलोम विलोम

अपने दम पर चुनाव लड़ने की कर चुके हैं घोषणा
नाना पटोले प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद से पार्टी के अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ ही स्वयं को मुख्यमंत्री का चेहरा भी बता चुके हैं। इस कारण जहां शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी उनसे नाराज हो गई है, वहीं पार्टी के नेता-मंत्री भी इसे बेवजह की बयानबाजी बता रहे हैं। हालांकि अभी तक इस बारे में खुलकर पार्टी के किसी नेता ने बयान नहीं दिया है, लेकिन पार्टी के अंदर उनकी आलोचना शुरू हो गई है और समझा जा रहा है कि वे पार्टी हाईकमान से जल्द ही नाना की शिकायत कर उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने की मांग करेंगे।

ये भी पढ़ेंः नेपालः अब पीएम ओली ने योग पर ठोका दावा! कही ये बात

सरकार में शामिल है कांग्रेस
बता दें कि महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से दूर रखने के लिए महाविकास आघाड़ी का गठन किया गया है और यहां इस गठबंधन की सरकार है। इस गठबंधन में शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ ही कांग्रेस भी शामिल है। इस स्थिति में नाना पटोले की बयानबाजी महाविकास आघाड़ी सरकार पर भारी पड़ने के साथ ही कांग्रेस की भी परेशानी बढ़ा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here