देशमुख रहेंगे हिरासत में ही… न्यायालय ने सुनाया निर्णय

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख की हिरासत अवधि बढ़ गई है। उन्हें शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया गया था, जहां न्यायालय ने तीन दिन के लिए प्रवर्तन निदेशायल की हिरासत अवधि बढ़ा दी।

देशमुख को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया था, शुक्रवार को उनकी हिरासत अवधि समाप्त हो रही थी, जिसके बाद उन्हें न्यायालय में पेश किया गया। इस सुनवाई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सांसद और पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार की पुत्री सुप्रिया सुले भी उपस्थित थीं। पूर्व गृहमंत्री को धन शोधन (मनी लॉंडरिंग) के प्रकरण में गिरफ्तार किया गया है। उन्हें केंद्रीय एजेंसी ने कई समन दिये थे। न्यायालय ने 15 नवंबर 2021 तक प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में अनिल देशमुख को भेज दिया है।

वो फरार, हम गिरफ्तार
न्यायालय में अनिल देशमुख के अधिवक्ताओं ने पक्ष रखा कि, प्रवर्तन निदेशालय ने परमबीर सिंह या सचिन वाझे को गिरफ्तार नहीं किया है। इस प्रकरण में एजेंसी के समक्ष पेश होनेवाले अनिल देशमुख को ही गिरफ्तार कर लिया। प्रतिदिन 8 से 9 घंटे उनसे पूछताछ की जा रही है। देशमुख को मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है।

हमें इसलिये चाहिये हिरासत
प्रवर्तन निदेशालय ने न्यायालय में स्पष्ट किया कि उसे अनिल देशमुख की हिरासत पूछताछ के लिए नहीं चाहिए, बल्कि उनका बयान दर्ज करना है। इसके लिए कम से कम दो दिनों की हिरासत दी जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here