तो इसलिए बालासाहेब के विरोध में उतर गई ‘मनसे’!

मनसे इस विरोध से लोकल अग्री कोली समाज में अपना पैर जमाने की कोशिश में है। इससे उठे विवाद के कारण शिवसेना का कोली समाज का वोट बैंक नाराज होकर मनसे की तरफ जा सकता है।

नई मुंबई एयरपोर्ट का नाम बालासाहेब ठाकरे का नाम दिये जाने का मनसे ने भी विरोध किया है। इसको लेकर मनसे का पक्ष है कि इसका नाम आगरी कोली नेता के नाम पर होना चाहिए। इसके लिए मनसे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र भी लिखा है।

दरअसल, राजनीति वहां से गरमाई जब शिवसेना विधायक और राज्य सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे ने नई मुंबई एयरपोर्ट को शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का नाम दिये जाने की मांग की। मनसे का पक्ष है कि शहर का गार्जियन मिनिस्टर होने के नाते शिंदे को ऐसा प्रस्ताव पेश करने के पहले शहर के लोगों की राय लेनी चाहिए थी।

ये भी पढ़ें – अब सैटेलाइट ने बताई ये राज की बात…

मराठी में पढ़ें – …म्हणून मनसेला नको आहे बाळासाहेबांचे नाव 

मनसे का स्थानीय राग… लोकल नाम, वोट बैंक भी जाम

मनसे ने कहा है कि मुंबई में स्व. दी.बा पाटील ने कोली समाज के लिए बहुत काम किया है। समाज में उनको देवता की तरह पूजा जाता है। नवी मुंबई में 1980 के दशक में जब जेएनपीटी और सिडको के परियोजनाग्रस्तों को कम पैसे दिये जा रहे थे तो दी.बा पाटील ने जबरदस्त आंदोलन छेड़ा था। 1984 में उरण के आंदोलन में 5 लोग शहीद भी हुए थे। इस आंदोलन को देखते हुए 1894 के भूसंपादन कानून को बदल दिया गया। इसके बाद स्थानीय लोगों को 12.5 प्रतिशत के भाव से जमीन के पैसे मिले।

ये भी पढ़ें – तो ये है दरगाह के ट्रस्टी का महापाप!

माना जा रहा है कि मनसे इस विरोध से लोकल अग्री कोली समाज में अपना पैर जमाने की कोशिश में है। इससे उठे विवाद के कारण शिवसेना का कोली समाज का वोट बैंक नाराज होकर मनसे की तरफ जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here