अब पीके नहीं करेंगे चुनाव रणनीतिकार का काम! बताई ये वजह

पीके ने दावा किया था कि भारतीय जनता पार्टी यहां 100 के आंकड़े को नहीं कर पाएगी। उन्होंने ममता बनर्जी की हैट्रिक का भी दावा किया था। उनके दावे सच साबित होते दिख रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पार्टी की वापसी हो रही है। इस बीच पार्टी की चुनाव प्रचार से लेकर रणनीति बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अपने इस पेशे को छोड़ने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि अब वे चुनाव रणनीतिकार का काम नहीं करेंगे।

बता दें कि उन्होंने चुनाव के दौरान दावा किया था कि भारतीय जनता पार्टी यहां 100 के आंकड़े को नहीं कर पाएगी। उन्होंने ममता बनर्जी की हैट्रिक का भी दावा किया था। उनके दावे सच साबित होते दिख रहे हैं। ऐसे में उन्होंने अपना ये काम छोड़ने की घोषणा कर सबको चौंका दिया है।

मेरे ब्रेक लेने का समय आ गया हैः पीके
एच टीवी चैनल से बात करते हुए पीके ने कहा कि वह जो भी कर रहे हैं, उसे वो जारी नहीं रखना चाहते। उन्होंने कहा कि मैंने काफी कुछ पा लिया है। अब मेरे लिए ब्रेेक लेने का समय आ गया है और जीवन में कुछ और करना चाहता हूं। मैं यह स्पेस छोड़ना चाहता हूं।

ये भी पढ़ेंः पांच राज्यों की मतगणना शुरू! 822 विधान सभा में किसका होगा राज?

देखना होगा कि मुझे अब क्या करना हैः पीके
क्या वह दोबारा राजनीति में शामिल होंगे, इस प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि मैं एक असफल राजनीतिज्ञ हूं। अगर मैं राजनीति में गया तो मुझे वापस जाना होगा और देखना होगा कि मुझे अब क्या करना है।

सच हुई भविष्यवाणी
बता दें कि पश्चिम बंगाल को लेकर उनकी की गई भविष्यवाणी लगभग सच साबित होती दिख रही है और ममता बनर्जी की वापसी के साथ ही भाजपा 100 के आसपास सिमटती दिख रही है।

292 सीटों पर हुआ मतदान
बता दें कि यहां की कुल 294 सीटों में से 292 सीटों पर मतदान कराए गए हैं। दो सीटों के एक-एक उम्मीदवारों की कोराणा से मौत के कारण उन पर 16 मई को मतदान कराए जाएंगे। 2016 के चुनाव में यहां टीएमसी को 211 और कांग्रेस को 44 माकपा को 26 औ भाजपा को मात्र 3 सीटों पर जीत मिली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here