किरीट सोमैया पर हमले को लेकर गृह मंत्री ने दी सफाई, उल्टा मढ़ा ये आरोप!

गृहमंत्री ने कहा कि किरीट सोमैया को खार पुलिस स्टेशन की कस्टडी में आरोपित से मिलने नहीं जाना चाहिए था।

महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि सूबे में कानून व्यवस्था बिगाड़ने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। लेकिन पुलिस सक्षम है और कानून व्यवस्था को अबाधित रखने का काम कर रही है। गृहमंत्री ने कहा कि किरीट सोमैया को खार पुलिस स्टेशन की कस्टडी में आरोपित से मिलने नहीं जाना चाहिए था।

हनुमान चालीसा के नाम पर कानून व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास
दिलीप वलसे पाटील ने 24 अप्रैल को पत्रकारों को बताया कि पिछले दो दिनों से हनुमान चालीसा के नाम पर कानून व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है। नवनीत राणा तथा रवि राणा को पुलिस ने गिरफ्तार किया, उनसे मिलने के लिए किरीट सोमैया को पुलिस स्टेशन में जाने की जरूरत ही नहीं थी। कस्टडी में किसी आरोपित से मिलने के लिए सिर्फ वकील को ही अधिकार मिला हुआ है।

ये भी पढ़ें – सचिन तेंदुलकर का 49वां जन्म दिनः इन हस्तियों दीं शुभकामनाएं

किरीट सोमैया की सुरक्षा बढ़ाई गई
दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि 23 अप्रैल की घटना के बाद किरीट सोमैया की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। किरीट को सुरक्षा देना राज्य सरकार का काम है, लेकिन सुरक्षा देने से पहले इस बात की भी जांच की जाएगी, आखिर किरीट सोमैया को धोखा क्यों है। हमें कभी भी किसी से धोखा नहीं है। गृहमंत्री ने पत्रकारों से पूछा आप लोगों को धोखा नहीं है। बहुत से जनप्रतिनिधियों को धोखा नहीं है, फिर किरीट सोमैया ऐसा कौन सा काम कर रहे हैं, कि उन्हें धोखा है।

दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि जब से राज्य में महाविकास आघाड़ी सरकार अस्तित्व में आई है, तब से ही सरकार गिराने का प्रयास किया जा रहा है। 23 अप्रैल की घटना इसी साजिश का हिस्सा मात्र है, लेकिन सरकार सक्षम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here