अब राज ठाकरे ने पीएम को पत्र लिखकर की ये मांग!

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने राज्य में कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या और टीकों की कमी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह पत्र लिखा है

देश के कई राज्यों के साथ ही महाराष्ट्र में भी कोरोना संक्रमण के आंकड़े दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। इस बारे में अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने राज्य में कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या और टीकों की बढ़ती कमी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने मांग की है कि महाराष्ट्र को स्वतंत्र रूप से वैक्सीन खरीदने की अनुमति दी जाए।

मनसे प्रमुख ने कहा है कि कोरोना महामारी का कई राज्यों में तेजी से प्रकोप बढ़ा है। इस महामारी को नियंत्रित करने के लिए सभी राज्यों को स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार रणनीति बनाने की आवश्यकता है।

हर राज्य को मिले स्वतंत्र रुप से रणनीति बनाने की मंजूरी
राज ने पत्र में लिखा है कि ‘स्वास्थ्य’ सभी राज्यों के लिए एक अहम मुद्दा है। इसलिए, केंद्र को न केवल सभी राज्यों को विशेष उपाय करने की अनुमति देनी चाहिए, बल्कि स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार इसके लिए उन्हें प्रोत्साहित भी करना चाहिए। इससे हर राज्य में अलग-अलग कदम उठाए जाएंगे। इससे दूसरे राज्यों को सीखने को भी मिलेगा।अपने पत्र में, राज ठाकरे ने लिखा है कि हम आपसे उम्मीद करते हैं कि आप इन सभी सुझावों को सकारात्मक रूप से देखेंगे और उनका जवाब देंगे।

ये भी पढ़ेंः कई विदेशी कोरोना वैक्सीन की एंट्री जल्द, कीमत जानकर हैरान रह जाएंगे आप!

राज ठाकरे ने पत्र में कही ये बात
पिछले साल कोविड -19 के प्रकोप के बाद से, महाराष्ट्र राज्य सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है। देश में पाए गए पहले मरीजों में से कुछ महाराष्ट्र में पाए गए थे। तब से, महाराष्ट्र में सबसे अधिक मरीज और दुर्भाग्य से सबसे अधिक मौतें हुई हैं। हालांकि पूरा देश कोविड -19 के संकट से जूझ रहा है, लेकिन महाराष्ट्र में स्थिति सबसे खराब है।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में लॉकडाउन जैसा कड़ा प्रतिबंध!

महाराष्ट्र को सबसे ज्यादा नुकसान
कोविड -19 की पहली लहर और लॉकडाउन ने महाराष्ट्र को बहुत नुकसान पहुंचाया है। इसके साथ ही हम अब तक देश भर में इसके आर्थिक और सामाजिक दुष्परिणामों का अनुभव कर रहे हैं। महाराष्ट्र इसे रोकने के लिए लगातार लॉकडाउन और अन्य तरह के प्रतिबंध नहीं लागू रख सकता है। ये समस्या का स्थाई समाधान नहीं है। इस कठिन परिस्थिति में राज्य को पर्याप्त टीका भी उपलब्ध नहीं हो रहे हैं, तो फिर इसका विकल्प क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here