महाविकास आघाड़ी का अजीत पवार पर ‘अविश्वास’? ये है कारण

महाविकास अघाड़ी के 39 विधायकों ने 29 दिसंबर की शाम विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दाखिल किया है।

महाराष्ट्र में राजनीतिक हलकों में इस समय संदेह व्यक्त किया जा रहा है कि जिस महाविकास आघाड़ी ने अध्यक्ष राहुल नार्वेकर को विधानसभा में बोलने की अनुमति नहीं देने पर उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दायर किया था। संदेह व्यक्त किया जा रहा है कि उन्हें अपने ही नेता अजीत पवार पर भरोसा नहीं है।

महाविकास अघाड़ी के 39 विधायकों ने 29 दिसंबर की शाम विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दाखिल किया है। इस संबंध में विधान सचिव राजेंद्र भागवत को पत्र दिया गया है। चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है कि इस प्रस्ताव पर नेता प्रतिपक्ष अजीत पवार ने हस्ताक्षर नहीं किए हैं। अब शरद पवार ने जवाब दिया है कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।

अजीत पवार ने कहा, “अध्यक्ष के खिलाफ इस अविश्वास प्रस्ताव के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। ऐसा अविश्वास प्रस्ताव तब तक नहीं लाया जा सकता, जब तक कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू अपना एक वर्ष का कार्यकाल पूरा नहीं कर लेतीं। अगर मैं राजी होता तो मैं इस पर हस्ताक्षर कर देता। लेकिन मैं इस मामले को जरूर देखूंगा।”

किसके-किसके हैं हस्ताक्षर
विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर पर सदन में बोलने नहीं देने का आरोप लगाते हुए महाविकास आघाड़ी के विधायकों ने नार्वेकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दाखिल किया है. यह प्रस्ताव विधान सचिव राजेंद्र भागवत के पास दाखिल किया गया है। अविश्वास प्रस्ताव को लेकर कांग्रेस विधायक सुनील केदार, सुरेश वरपुडकर, शिवसेना विधायक सुनील प्रभु और राकांपा विधायक अनिल पाटिल ने सचिव को यह पत्र सौंपा है. इस पत्र पर महाविकास अघाड़ी के 39 विधायकों के हस्ताक्षर हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here